नई दिल्ली। ये किसी कुत्ते की वफादारी की आम कहानी नहीं है। तस्वीर में दिख रहे इस कुत्ते की आंखों की उदासी बता रही है कि वह अपने मालिक से मिलने के लिए कितना बेचैन था। रूस ( Russia ) का एक कुत्ता 200 किलोमीटर की दूरी पैदल चलकर अपने मालिक के करीब पहुंच गया। सबके मन में सवाल है कि अपनी यात्रा के दौरान वो साइबेरिया ( Siberia ) के जंगलों में भालू और भेड़ियों से खुद को बचाते हुए कैसे अपने मालिक तक पहुंच गया। बुलमास्टिफ ( Bullmastiff ) नस्ल के इस मादा कुत्ते का नाम मारू है। जिसे उसके मालिक ने ये कहकर छोड़ दिया था कि उसे उससे एलर्जी है। लेकिन मारू को उसके मालिक से बेहद ही लगाव था।

Rejected Dog maru

मारू का नया मालिक उसे ट्रेन में बांधकर कहीं ले जा रहा था। मगर उसने किसी तरह खुद को छुड़ा लिया। रात में स्टेशन से उतारकर मारू ने अपने मालिक के पास वापस जाने का सफर शुरू किया। मारू के भाग जाने पर उसके लिए खोज शुरू हुई। सोशल मीडिया पर उसके लिए कैंपेन चलाए गए। पूरे ढ़ाई दिन की खोज के बाद आखिरकार मारू मिल ही गया। हैरान कर देने वाली बात ये ही कि मारू उस जहग के बेहद करीब था जहां उसका पुराना मालिक रहता था।

 Bullmastiff called Maru

मारू के पुराने मालिक ने उसे 6 महीने पहले छोड़ दिया था। पहली बार मारू को देखने वाले शख्स का कहना है कि जब उसने देखा तो उसकी आंखों में आंसू थे। मारु की किस्मत अच्छी थी कि 200 किलोमीटर की दूरी में उसे जान का कोई खतरा नहीं हुआ यहां तक की वो साइबेरिया के जंगलों में भेड़ियों और भालू से भी बचकर निकल आया। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, जब मारू मिला तो उसका एक पैर टूटा हुआ था। वह चोटिल भी था। ऐसा कई बार हुआ है कि जब कुत्ते अपने पुराने मालिक को छोड़ नहीं पाते और उनके पास वापस चले आते हैं लेकिन मारू ने अपने पुराने मालिक तक पहुंचने के लिए जो दूरी तय की है वो हैरान कर देने वाली चीज है।