नई दिल्ली : टीम इंडिया को हमेशा से बल्लेबाजों की टीम माना जाता है। आज बुधवार को दिल्ली के निर्णायक मुकाबले में वही दगा दे गई। इस वजह से ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नई दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में खेले गए सीरीज के पांचवें और आखिरी वनडे में उसे 35 रनों से हार का मुंह देखना पड़ा। इसी के साथ उसने 2-3 से सीरीज भी गंवा दी। यह हार इसलिए भी बड़ी है, क्योंकि भारत विश्व कप से पहले आखिरी वनडे सीरीज खेल रहा था, वह भी अपनी धरती पर। भारत के करोड़ों प्रशंसकों को उम्मीद थी कि भारत इस सीरीज में पिछले कुछ समय से पस्तहाल चल रहे ऑस्ट्रेलिया को निश्चित हरा देगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इस कारण सारे भारतीय प्रशंसकों का दिल टूट गया।
ऑस्ट्रेलिया ने बुधवार को भारतीय टीम के सामने पांचवें और निर्णायक वनडे मैच में 273 रनों का लक्ष्य रखा था, लेकिन भारतीय टीम 50 ओवरों में 237 रन बनाकर आल आउट हो गई। इसी के साथ ऑस्ट्रेलिया ने पांच मैचों की सीरीज 3-2 से अपने नाम कर ली। यह आस्ट्रेलियाई टीम की भारत में 10 साल बाद पहली वनडे सीरीज जीत है और विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय धरती पर पहली वनडे सीरीज हार। सीरीज में दो शतक लगाने वाले उस्मान ख्वाजा को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज का खिताब मिला।

रोहित का पचासा नहीं आया काम
भारत के लिए रोहित शर्मा ने 56 रन बनाए। इसके लिए उन्होंने 89 गेंदों का सामना किया। अंत में भुवनेश्वर कुमार ने 46 और केदार जाधव ने 44 बनाकर सातवें विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी कर भारत की जीत के लिए जान लड़ा दिया, लेकिन यह कोशिशें नाकाफी साबित हुईं।
भारत की ओर से भुवनेश्वर कुमार ने तीन विकेट लिए। मोहम्मद शमी और रवींद्र जडेजा को दो-दो विकेट मिला। कुलदीप यादव ने एक विकेट लिया तो जरूर, लेकिन वह काफी महंगे साबित हुए।

ऑस्ट्रेलिया को मिली बेहतरीन शुरुआत
भारतीय गेंदबाजों ने एक बार फिर मध्य के ओवरों में वापसी की। उन्होंने एक समय बड़े स्कोर की ओर बढ़ रही ऑस्ट्रेलिया को 272 रनों पर रोक दिया।
टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी आस्ट्रेलियाई टीम को कप्तान एरॉन फिंच और उस्मान ख्वाजा से अच्छी शुरुआत मिली। इस जोड़ी के सामने भारत की तेज बेअसर साबित हुए। इन दोनों पहले विकेट के लिए 14.3 ओवरों में 76 रनों की साझेदारी की। इस जोड़ी को रवींद्र जडेजा ने तोड़ा। उन्होंने एक बेहतरीन गेंद पर फिंच को बोल्ड मार दिया। फिंच ने 43 गेंदों पर 27 रनों की पारी खेली।

ख्वाजा का शतक, हैंड्सकॉम्ब ने लगाया अर्धशतक
फिंच के बाद ख्वाजा और पीटर हैंड्सकॉम्ब ने ऑस्ट्रेलियाई स्कोर बोर्ड को अच्छे से चालू रखा। दोनों ने भारतीय स्पिनरों पर संयम से बल्लेबाजी की और मौका देख बड़े शॉट भी खेले। ख्वाजा ने 32 ओवर की पांचवीं गेंद पर एक रन लेकर अपना दूसरा वनडे शतक पूरा किया। इसके लिए उन्होंने 102 गेंदों का सामना किया। इसके बाद ख्वाजा अगले ओवर की आखिरी गेंद पर भुवनेश्वर कुमार की गेंद पर शॉर्ट कवर्स पर कोहली को आसान सा कैच दे बैठे। उनका विकेट 175 रनों के कुल स्कोर पर गिरा। ख्वाजा और हैंड्सकॉम्ब ने दूसरे विकेट के लिए 111 गेंदों पर 99 रनों की साझेदारी की। इस मैच में मैक्सवेल (1) कुछ खास नहीं कर सके और अगले ओवर में जडेजा का शिकार बने। इस बीच हैंड्सकॉम्ब ने कुमार की गेंद पर एक रन लेकर अपने 50 रन पूरे किए। इसके लिए उन्होंने 55 गेंदें खेलीं। अर्धशतक पूरा करने के बाद हैंड्सकॉम्ब, शमी का शिकार हो हए। उन्होंने 60 गेंदों पर कुल 52 रन बनाए। हैंड्सकॉम्ब का विकेट 182 के कुल स्कोर पर गिरा।
यहां से भारतीय गेंदबाज हावी हो गए और आस्ट्रेलिया की रन गति पर अंकुश लगा दिया। मार्कस स्टोइनिस, एश्टन टर्नर ने 20-20, झाए रिचर्डसन ने 29 और पैट कमिंस ने 15 रन बनाए। भारत के लिए भुवनेश्वर कुमार ने तीन विकेट लिए। मोहम्मद शमी और रवींद्र जडेजा ने दो-दो और कुलदीप यादव ने एक विकेट मिला।

भारत की पूरी बल्लेबाजी रही विफल
272 रनों के लक्ष्य के सामने आज भारत की पूरी बल्लेबाजी विफल रही। थोड़ा-बहुत संघर्ष सिर्फ रोहित शर्मा (56), केदार जाधव (44) और भुवनेश्वर (46) ही दिखा सके। इसके बाद कप्तान विराट कोहली, शिखर धवन, ऋषभ पंत समेत भारत का कोई भी बल्लेबाज नहीं चला। इन तीनों के बाद शीर्ष स्कोरर विराट कोहली रहे, जिन्होंने मात्र 20 रन बनाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here