दुबई : आर्मी कैप पहनकर भारतीय क्रिकेट टीम ने रांची में आस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरा वनडे मैच खेला था। इस पर पाकिस्तान ने आपत्ति जताई थी और आइसीसी से शिकायत करते हुए एक पत्र भेजकर कार्रवाई की मांग की थी। इसका जवाब देते हुए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट काउंसिल (आइसीसी) ने सोमवार को कहा कि भारत ने देश के सैन्य बलों के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए सैनिकों जैसी टोपी (मिलिटरी कैप) पहनने की अनुमति ले ली थी।
बता दें कि 8 मार्च को खेले गए सीरीज के तीसरे वनडे में टीम इंडिया ने पुलवामा आतंकी हमले में शहीद सीआरपीएफ जवानों के सम्मान में मिलिट्री कैप पहनी थीं और अपनी मैच फीस राष्ट्रीय रक्षा कोष को दान कर दी थी।

आइसीसी महाप्रबंधक ने दी जानकारी
इसकी जानकारी आईसीसी के रणनीतिक संचार महाप्रबंधक क्लेरी फुर्लोग ने दी। अपने बयान में उन्होंने कहा कि बीसीसीआइ ने शहीद सैनिकों की याद में और उनके लिए धन जुटाने के लिए आर्मी कैप पहनने की अनुमति मांगी थी। आइसीसी ने टीम इंडिया को इसकी अनुमति दे दी गई।

पीसीबी चीफ ने कहा- दूसरे मुद्दे के लिए किया इस्तेमाल
इसके बावजूद पीसीबी चीफ अहसान मनी का कहना है कि बीसीसीआइ ने आइसीसी से अनुमति दूसरे मुद्दे के लिए ली और इसका इस्तेमाल दूसरे उद्देश्य के लिए किया। यह स्वीकार्य नहीं है। पाकिस्तान ने तर्क दिया था कि खेलों का राजनीतीकरण नहीं किया जाना चाहिए, जबकि इस कैप को पहनने का टीम इंडिया का मकसद पुलवामा के शहीदों को सम्मान देना था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here