विम्बलडन फाइनल में छठी बार पहुंचे नोवाक जोकोविच, फेडरर से होगा मुकाबला

0
8

विश्व के नंबर एक खिलाड़ी नोवाक जोकोविच ने शुक्रवार को कड़े मुकाबले में राबर्टो बातिस्ता आगुट को 6-2, 4-6, 6-3, 6-2 से हराकर छठी बार विम्बलडन टेनिस टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश किया। 

15 बार खिताब जीता : जोकोविच 25वीं बार किसी ग्रैंड स्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे हैं। वह अब तक 15 बार खिताब जीतने में सफल रहे हैं। विम्बलडन में चार बार के चैंपियन सर्बियाई खिलाड़ी को फाइनल में रोजर फेडरर से भिड़ना होगा, जिन्होंने सेमीफाइनल में राफेल नडाल को मात दी है। विम्बलडन फाइनल में जोकोविच का रिकॉर्ड 4-1 का है। उन्हें एकमात्र  हार 2013 में एंडी मरे से झेलनी पड़ी थी। नोवाक का फेडरर के खिलाफ 25-22 और नडाल पर 28-26 का रिकॉर्ड है। 

भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान की प्रेरणा हैं मैरीकॉम

अच्छी शुरुआत : जोकोविच ने अच्छी शुरुआत की, लेकिन स्पेन के 23वें वरीयता प्राप्त आगुट ने जल्द ही लय हासिल कर ली। जोकोविच ने पहले सेट के शुरू में ही आगुट की सर्विस तोड़ दी थी और फिर आखिरी गेम में भी ब्रेक प्वॉइंट लेकर यह सेट अपने नाम किया। 

वापसी की : आगुट ने हालांकि दूसरे सेट में अच्छी वापसी की। उन्होंने तीसरे गेम में जोकोविच की सर्विस तोड़कर 2-1 से बढ़त ली। स्पेन के इस खिलाड़ी को पांचवें गेम में भी दो ब्रेक प्वाइंट मिले, लेकिन वह फायदा नहीं उठा सके। 

अनुभव का इस्तेमाल : जोकोविच ने इसके बाद अपने अनुभव का अच्छा इस्तेमाल किया। उन्होंने तीसरे सेट में भी दो बार ब्रेक प्वाइंट बचाए। इस शीर्ष वरीय खिलाड़ी ने छठे गेम में आगुट की सर्विस तोड़कर 4-2 से बढ़त बनाई और अगले गेम में दो ब्रेक प्वाइंट बचाकर स्पेनिश खिलाड़ी की वापसी की उम्मीदों पर पानी फेर दिया। चौथे सेट में जोकोविच शुरू से ही हावी हो गए और उन्होंने आगुट को कोई मौका नहीं दिया। उन्होंने आसानी से सेट और मैच अपने नाम किया। 

16 साल के जेरेमी ने तोड़ा युवा विश्व रिकॉर्ड, वेटलिफ्टिंग में बनाया नया कीर्तिमान

सपना सच होने जैसा : नोवाक
जोकोविच ने मैच के बाद कहा,  यह मेरे लिए उल्लेखनीय रहा और एक और फाइनल में पहुंचना सपना सच होने जैसा है। राबर्टो पहली बार ग्रैंड स्लैम के सेमीफाइनल में खेल रहे था और वह वास्तव में दबाव में नहीं था। इस 32 वर्षीय खिलाड़ी ने कहा कि तीसरे सेट के पहले चार-पांच गेम काफी करीबी रहे जिन्हें कोई भी जीत सकता था। सौभाग्य से वे मेरे पक्ष में गए।