सोमवार ने बनाया इस बार महाशिवरात्रि को सबसे खास, इस जगह की गई पूजा नहीं होती निष्फल

8

4 मार्च 2019 दिन सोमवार को हैं देवों के देव महादेव की पूजा का सबसे बड़ा दिन महाशिवरात्रि महापर्व । शास्त्रों के अनुसार मान्यता हैं कि अगर महाशिवरात्रि का पर्व सोमवार के दिन पड़ जाता हैं उससे इस पर्व का महत्व कई गुना अधिक बड़ जाता हैं, और वह महासइवरात्रि सबसे खास स्वतः ही हो जाती हैं । हिन्दू धर्म में पुराणों के अनुसार भगवान शिवजी जहाँ-जहाँ स्वयं प्रगट हुए उन बारह स्थानों पर स्थित शिवलिंगों को ज्योतिर्लिंगों के रूप में पूजा जाता है । साथ देश विदेश में भी अनेक शिवलिंगों की स्थापना हैं । कहा जाता हैं की जिस जगह अति प्राचीन शिवलिंग स्थापित हैं उनकी विशेष पूजा आराधना करने से भक्त की पूजा कभी भी निष्फल नहीं होती, उसका सकारात्मक परिणाम मिलता हैं, साधक अनेक मनोकामनाएं पूर्ण होने लगती हैं ।

 

अगर महाशिवरात्रि का महापर्व सोमवार के दिन पड़ जाये तो ज्योतिर्लिंग या फिर किसी प्राचीन शिवालय में जाकर भगवान शिव के स्वरूप शिवलिंग का षोडषोपचार विधि के पूजन करने एवं विशेष जलाभिषेक करने से महादेव सभी इच्छाएं पूरी कर देते हैं । इस महाशिवरात्रि पर नीचे बताये गये शिवलयों या फिर अपने घर में ही शिवलिंग की स्थापना करने से सैकड़ों महायज्ञों का पुण्यफल प्राप्त होता हैं ।

 

भारत के प्रमुख शिवलयों में स्थापित अति प्राचीन शिवलिंग

1- सोमनाथ (गुजरात)
2- मल्लिकार्जुन (आंध्रप्रदेश)
3- महाकाल (मध्यप्रदेश)
4- ममलेश्वर (मध्यप्रदेश)
5- बैद्यनाथ (झारखंड)

6- भीमाशंकर (महाराष्ट्र)
7- केदारनाथ (उत्तराखंड)
8- विश्वनाथ (उत्तरप्रदेश)
9- त्र्यम्बकेश्वर (महाराष्ट्र)
10- नागेश्वर (गुजरात)

11- रामेश्वरम् (तमिलनाडु)
12- घृश्णेश्वर (महाराष्ट्र)
13- अमरनाथ (जम्मू-कश्मीर)
14- कालेश्वर (तेलंगाना)
15- श्रीकालाहस्ती (आंध्रप्रदेश)

16- एकम्बरेश्वर (तमिलनाडु)
17- अरुणाचल (तमिलनाडु)
18- तिलई नटराज मंदिर (तमिलनाडु)
19- लिंगराज (ओडिशा)
20- मुरुदेश्वर शिव मंदिर (कर्नाटक)

21- शोर मंदिर, महाबलीपुरम् (तमिलनाडु)
22- कैलाश मंदिर एलोरा (महाराष्ट्र)
23- कुम्भेश्वर मंदिर (तमिलनाडु)
24- बादामी मंदिर (कर्नाटक)
25- पशुपतिनाथ मंदिर, मंदसौर (मध्यप्रदेश)

 

भारत में स्थापित इन प्रमुख शिवलिंगों के अलावा एक और मुख्य शिवलिंग – पशुपतिनाथ जो नेपाल देश के काठमांडू में स्थित हैं जहां पूरी दुनिया के शिवभक्त शिवजी का आशीर्वाद लेने महाशिवरात्रि पर्व एवं श्रावण मास में जाते हैं ।