काराकास। वेनेजुएला में राष्ट्रपति निकोलस मादुरो और विपक्ष के नेता जुआन गुइदो के बीच संघर्ष बढ़ गया है। मंगलवार को मादुरो के वफादारों ने संविधान के उल्लंघन मामले में गुइदो की गिरफ्तारी का मार्ग प्रशस्त कर दिया है। संविधान सभा में उनके खिलाफ वोट किया गया है। गुइदो पर आरोप है कि उन्होंने अपने आप को राष्ट्रपति घोषित करने का अपराध किया है। इस मामले में मादुरो के साथ उनके वफादार भी हैं जो गुइदो के खिलाफ बयान दे रहे हैं। मगर क्या राष्ट्रपति निकोलस मादुरो की सरकार संविधान सभा के निर्णय के बाद 35 वर्षीय गुइदो के खिलाफ कार्रवाई करेगी या नहीं। उन्होंने जनवरी में खुद को वेनेजुएला का अंतरिम राष्ट्रपति घोषित किया और मादुरो को उखाड़ फेंकने की कसम खाई। हालांकि, अब तक, मादुरो ने इस पर बोलने से परहेज किया है मगर अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ अन्य 50 देशों के समर्थन पर अब उन्हें अपनी सत्ता जाने का खतरा मंडराने लगा है।

गुइदो को नुकसान पहुंचाने पर होगी कार्रवाई

ट्रंप प्रशासन ने मादुरो सरकार को धमकी दी है कि यदि गुइदो को नुकसान पहुँचाया जाता है तो वह उस पर कड़ी कार्रवाई करेगा। वहीं फ्लोरिडा के सीनेटर मार्को रुबियो ने वोट से पहले कहा कि गुइदो को उनके वैध नेता के रूप में मान्यता देने वाले देशों को मादुरो सरकार से बातचीत का रास्ता खोलना चाहितए। रूबियो ने ट्विटर पर कहा कि गोइदो को समर्थन देना तख्तापलट नहीं समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मांग यहां के नागरिकों की हैं। हालांकि, गुएदो के खिलाफ वोट सर्वसम्मति से था, और संविधान सभा के अध्यक्ष और समाजवादी पार्टी के मुखिया डायोसादो काबेलो ने विपक्ष पर एक विदेशी आक्रमण और एक नागरिक युद्ध को उकसाने का आरोप लगाया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here