क्राइस्टचर्च मस्जिद हमला: अभी भी 12 मरीजों की हालत गंभीर, घायलों में चार साल की बच्ची भी

6

क्राइस्टचर्च। क्राइस्टचर्च शहर में इस वक्त हर तरफ गम का माहौल है। आतंकी हमला के बाद अभी भी घायलों की मदद के लिए राहतकर्मी जुटे हुए हैं। शुक्रवार को हुए गोलीकांड के बाद से क्राइस्टचर्च अस्पताल के सर्जन, डॉक्टर और नर्स लगातार घायलों मदद कर कर रहे हैं। अभी भी 12 मरीजों की हालत गंभीर बताई जा रही है। घायलों में चार साल की बच्ची आलिन अलसाती भी है जिसे ऑकलैंड के आईसीयू में भर्ती कराया गया है।

लगातार डटे हुए हैं शहर के डॉक्टर-नर्स

क्राइस्टचर्च अस्पताल के चीफ सर्जन ग्रेग रॉबर्स्टन इस गोलीकांड के बाद से लगातार ड्यूटी पर हैं। उन्होंने अस्पताल के माहौल के बारे में कहा कि यहां टीम के डॉक्टरों,सर्जनों,नर्स और हॉस्पिटल स्टाफ सभी मरीजों के इलाज में जुटे हुए हैं। शुरुआत में कुछ प्राइवेट गाड़ियों में घायलों की बॉडी आई और उसके बाद एक के बाद एक एंबुलेंस में भरकर शव आते रहे।

क्राइस्टचर्च शहर हादसों से निपटना जानता है

इस शहर को त्रासदी से उबरकर जीने के लिए जाना जाता है,लेकिन गोलीकांड ने लोगों को भयानक डर से भर दिया है। 2010 और 2011 में आए भयानक भूकंप में शबर के 180 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी। उस वक्त भी शहर की मेडिकल टीम ने मुस्तैदी से मामले को संभाल लिया था। हालांकि, ग्रेग कहते हैं कि उन्हें नहीं लगता है कि भूकंप के वक्त हमने जिस तरह से काम किया था, उसे देखते हुए अचानक आई आपदा में हमारी क्षमता को लेकर किसी को संदेह है। यह हमारी पूरी प्रक्रिया का हिस्सा है।’