मसूद अजहर मामले में भारत को मिल सकती है बड़ी कामयाबी, UNSC के 14 देशों का सपोर्ट

12
0 Shares

संयुक्त राष्ट्र। जैश-ए-मोहम्मद प्रमुख और खूंखार आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने की कोशिशें एक बार फिर से शुरू हो गई हैं। भारत को इस मामले में सुरक्षा परिषद् के 14 देशों का सपोर्ट मिल रहा है। चीन द्वारा यूएनएससी में मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी के रूप में नामित करने की भारत की कोशिश को नाकाम करने के बाद अब नए उपाय तलाश किए जा रहे हैं। भारत ने कहा है कि वह इस मामले में धैर्य दिखाएगा। भारत अब भी यूएनएससी की मंजूरी समिति के सदस्यों के साथ काम कर रहा है।

सिरफिरा या आतंकी, आखिर कौन है न्यूजीलैंड में कत्लेआम मचाने वाला यह शख्स

भारत को मिला 14 देशों का साथ

यूएन में बोलते हुए भारत के प्रतिनिधि ने कहा है कि भारत इस मामले में आशावादी नजरिया रखता है। उन्होंने कहा कि भारत मानता है कि मसूद अजहर को आतंकी के रूप में जरूर सूचीबद्ध किया जाएगा। भारत ने आरोप लगाया कि चीन का यह कदम पाक को खुश करने के लिए हैं। भारत के पास 14 सदस्यों का मजबूत समर्थन है। अब इस मामले में अमरीका, फ्रांस और ब्रिटेन ने चीन से बातचीत की है। सुरक्षा परिषद के इन तीन बड़े सदस्य देशों ने भारत का समर्थन किया है। माना जा रहा है कि इस मामले में चीन से बातचीत की जा रही है और जल्द ही चीन के साथ कोई समझौता हो सकता है। बता दें चीन ने अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित किए जाने के प्रस्ताव पर वीटो लगा दिया था। इस प्रस्ताव को अमरीका, फ्रांस और ब्रिटेन यानी ‘ट्रिपल पी’ देशों ने पेश किया था।

क्राइस्टचर्च आतंकी हमला: अदालत में पेश किया गया आरोपी, 5 अप्रैल तक हिरासत में

 

UNSC में घिरा चीन

भारत का कहना है कि यह चीन भी जानता है कि आतंकवाद एक चुनौती है। चीन को यह भी पता है कि जैश का पूरा नेटवर्क पाकिस्तान से संचालित होता है। उधर पाकिस्तान मसूद अजहर के बचाव के लिए भारी राजनयिक पूंजी खर्च कर रहा है। अच्छी बात यह है कि अमरीका भारत के सपोर्ट में खुलकर आ गया है और उसने आश्वासन दिया है कि पाकिस्तान पर कार्रवाई करेगा। कुछ दिन पहले ही भारत ने पुलवामा हमले और पाकिस्तान द्वारा भारतीय जमीन पर एफ-16 विमानों से हमला करने पर अमरीका के साथ के साथ चिंताओं को उठा चुका है। अमरीका ने अपनी स्थिति साझा करने के लिए भारत की सराहना की है।जानकारों के अनुसार यदि अजहर मसूद को वैश्विक आतंकवादी घोषित नहीं किया जाता तो सुरक्षा परिषद् के बाकी स्थायी सदस्य इस मुद्दे पर खुली बहस की योजना बना रहे हैं।

Read the Latest World News on Metrocitysamachar.com पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi मेट्रो सिटी समाचार डॉट कॉम पर.

0 Shares