डोनाल्ड ट्रंप: पुलवामा के बाद हालात बेहद खतरनाक, भारत उठा सकता है कोई बड़ा कदम

6

वाशिंगटन। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि पुलवामा हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बेहद खतरनाक दौर में पहुंच गया है। अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा आतंकी हमले में सीआरपीएफ के 40 जवानों के शहीद होने के बाद उपमहाद्वीप में तनाव बेहद बढ़ गया है। ट्रंप ने कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच स्थिति इस समय “बहुत खतरनाक” है और उन्हें आशंका है कि भारत इस हमले के बदले में कोई भी बड़ा कदम उठा सकता है।

भारत और पाकिस्तान के बीच स्थिति खतरनाक

पुलवामा आतंकी हमले पर डोनाल्ड ट्रंप ने अपना बयान जारी किया है।अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में भारतीय सुरक्षाबलों के 40 जवानों के शहीद होने के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच स्थिति बहुत खतरनाक है। अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ओवल ऑफिस में संवाददाताओं के सामने बोलते हुए कहा कि दोनों देशों के बीच स्थिति बेहद खतरनाक है।’ अमरीका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत कोई बड़ा कदम उठा सकता है। उन्होंने किया कि जो रिपोर्ट्स उन्हें मिली हैं, वह बताती हैं कि भारत पाकिस्तान के साथ सख्ती से पेश आने पर विचार कर रहा है। ट्रंप ने कहा, “भारत ने अभी अभी अपने 50 लोगों को खोया है। इसके बारे में कई लोग बात कर रहे हैं। लेकिन इन दोनों देशों के बीच तनाव बेहद नाजुक मोड़ पर है।”

 

सख्ती बरतेगा भारत

ट्रंप ने कहा कि लगता है कि भारत कुछ ‘बहुत कड़ा’ करने की सोच रहा है। ट्रंप ने कहा, “कश्मीर में जो भी हुआ है, उसकी वजह से इस वक्त भारत पाकिस्तान के बीच काफी तनाव है। ये बहुत खतरनाक है। इस वक्त भारत-पाकिस्तान के बीच खतरनाक चीजें हो रही है, यह एक बहुत ज्यादा खराब स्थिति है। हम चाहेंगे कि ये बंद हो।” आपको बता दें कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत पाकिस्तान को वैश्विक तौर पर अलग-थलग करने की कोशिश कर रहा है। भारत ने पाकिस्तान को दिए गए मोस्ट फेवर्ड नेशन का दर्जा वापस ले लिया है। भारत की कोशिशों का नतीजा है कि पाकिस्तान दिन पर दिन दुनिया में अलग-थलग होता जा रहा है। भारत का कहना है कि उसके पास पुलवामा हमले में पाकिस्तान के शामिल होने के पुख्ता सबूत हैं।

गौरतलब है कि पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर हुए हमले में भारत के 40 जवान शहीद हो गए थे। हमले के बाद पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी । आतंकी हमले के बाद भारत ने इसके लिए सीधे तौर पर पाकिस्तान को जिम्मेदार ठहराया। यूएनएससी ने भी शुक्रवार को इस हमले की निंदा की थी। यूएनएससी ने इस हमले को कायराना हरकत बताया।