लाहौर। भारत की ओर से नदियों का पानी रोकने के जवाब में पाकिस्तान ने कहा है कि यह भारत के वश की बात नहीं है। रावी, व्यास और सतलज तीन नदियों का पानी रोकने के फैसले पर पाकिस्तान ने अपना जवाब देते हुए कहा है है कि भारत में हमारे पानी को रोकने की क्षमता नहीं है। आपको बता दें कि गुरुवार को केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि इन तीन नदियों का पानी पाकिस्तान को दिए जाने की बजाय यमुना में छोड़ा जाएगा। अब इस पर पाकिस्तान की ओर से तीखी प्रतिक्रिया आई है।

पाकिस्तान में युद्ध का खौफ, एलओसी के पास खाली कराए जा रहे गांव

भारत के वश की बात नहीं

पकिस्तान स्थित सिंधु जल आयोग के उप-प्रमुख शेराज मेमन का कहना है कि पानी रोकने को लेकर हमारे पास कोई जानकारी नहीं आई है। उन्होंने कहा कि अगर ऐसा कुछ होता है तो यह गलत होगा। आगे बोलते हुए उन्होंने कहा कि भारत में इन नदियों का पानी को रोकने या मोड़ने की क्षमता नहीं है। आपको बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच 1960 में सिंधु जल समझौता हुआ।

सियोल में गरजे पीएम मोदी, आतंकवाद पर कड़े फैसले लेने का वक्त आ गया है

सिंधु जल समझौते में क्या है व्यवस्था

इस समझौते के तहत 6 नदियों के पानी का बंटवारा किया गया था जो भारत से पाकिस्तान में जाती हैं। इस समझौते के तहत रावी, व्यास और सतलज के पानी पर भारत को पूरा अधिकार दिया गया। 3 नदियों झेलम, चिनाब और सिंधु का पानी बिना किसी रोक टोक के पाकिस्तान को मिलना तय हुआ। सिंधु जल समझौते के तहत तीन नदियों- झेलम, चेनाब और सिंधु के पानी का 80 फीसदी इस्तेमाल पाकिस्तान और 20 फीसदी का इस्तेमाल भारत कर सकते हैं। लेकिन बताया जा रहा है कि भारत इन नदियों के पानी का पूरा इस्तेमाल नहीं कर पाता है। इसलिये भारत अपने हिस्से का पानी भी पाकिस्तान को दे देता है। भारत के इस पानी को रोकने के बाद अब पाकिस्तान को मिलने वाला अतिरिक्त पानी उसको नहीं मिल पाएगा।

Read the Latest World News on Metrocitysamachar.com पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi मेट्रो सिटी समाचार डॉट कॉम पर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here