सियोल में गरजे पीएम मोदी, आतंकवाद पर कड़े फैसले लेने का वक्त आ गया है

1
0 Shares

सियोल। पीएम नरेंद्र मोदी ने दक्षिण कोरिया को रक्षा क्षेत्र में भारत का एक महत्वपूर्ण भागीदार बताया है। पीएम मोदी ने पुलवामा आतंकी हमले के वक्त भारत के साथ खड़े होने के लिए दक्षिण कोरिया को धन्यवाद दिया। पीएम मोदी ने कहा कि दक्षिण कोरिया के साथ हमारी बढ़ती साझेदारी रक्षा समझौतों का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इसका एक उदाहरण भारतीय सेना में K-9 वज्र आर्टिलरी गन का शामिल होना है। पीएम ने कहा कि आज के वक्त में यह जरूरी है कि देश आतंकवाद पर सिर्फ बात न करें बल्कि कड़े एक्शन भी लें।

भारत के साथ खड़े होने का आभार

दक्षिण कोरिया के सियोल में पीएम मोदी ने कहा कि मैं राष्ट्रपति मून का आभार व्यक्त करता हूं, जिन्होंने पुलवामा अटैक पर अपनी संवेदना व्यक्त की और आतंक के खिलाफ समर्थन किया। दोनों देशों के बीच आज किए गए समझौते हमारे आतंकवाद निरोधी एजेंडे को आगे बढ़ाएंगे। पीएम मोदी ने कहा कि पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद राष्ट्रपति मून के संवेदना और समर्थन संदेश के लिए हम उनके आभारी हैं। उन्होंने आगे कहा कि हम आतंकवाद के खिलाफ अपने द्विपक्षीय और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग और समन्वय को और अधिक मजबूत करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

भारत के विकास के लिए कोरिया मॉडल मुफीद

पीएम मोदी ने कहा कि भारत के विकास के लिए कोरिया मॉडल बेहद मुफीद है। दक्षिण कोरिया के साथ हमारे बढ़ते पार्टनरशिप में रक्षा क्षेत्र की महत्वपूर्ण भूमिका है। भारतीय सेना में के-9 वज्र आर्टिलरी को शामिल करना इसका एक बड़ा उदाहरण है। आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इन दिनों दक्षिण कोरिया के दौरे पर हैं। उन्हें साल 2018 का सियोल शांति सम्मान प्रदान किया जाएगा। समारोह का आयोजन सियोल शांति सम्मान सांस्कृतिक फाउंडेशन द्वारा किया जाएगा।

सियोल शांति सम्मान मिलना गौरव की बात

पीएम ने कहा कि पिछले वर्ष अयोध्या में आयोजित ‘दीपोत्सव’ महोत्सव में फर्स्ट लेडी किम की मुख्य अतिथि के रूप में भागीदारी हमारे लिए सम्मान का विषय थी। पीएम मोदी ने कहा कि उनकी यात्रा से हमारे सांस्कृतिक संबंधों पर नया प्रकाश पड़। इस घटना ने नई पीढ़ी में उत्सुकता और जागरूकता का वातावरण बनाया । पीएम ने कहा, “सियोल शांति पुरस्कार प्राप्त करना मेरे लिए बहुत बड़े सम्मान का विषय होगा। मैं यह सम्मान अपनी निजी उपलब्धियों के तौर पर नहीं बल्कि भारत की जनता के लिए कोरियाई जनता की सद्भावना और स्नेह के प्रतीक के तौर पर स्वीकार करूंगा।”

0 Shares