राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने माना कि चीन को लेकर उनकी आक्रामक व्यापार नीति से अमेरिकियों को थोड़े समय के लिए आर्थिक मोर्चे पर दिक्कत हो सकती है लेकिन उन्होंने जोर दिया कि दीर्घकालिक महत्वपूर्ण लाभ के नजरिये से यह कदम जरूरी है।

ट्रंप ने मंगलवार को दावा किया कि उन्हें मंदी का डर नहीं है लेकिन इसके बावजूद वह आर्थिक वृद्धि को तेज करने के लिए करों में कुछ नयी कटौती पर विचार कर रहे हैं।

ट्रंप ने इस सवाल को खारिज किया कि क्या चीन के साथ व्यापार युद्ध से अमेरिका मंदी में फंस सकता है। उन्होंने इस तरह की बातों को ” अप्रसांगिक ” बताया और कहा कि ” चीन को घेरना जरूरी है। यह हमारे देश के लिए अच्छा है या बुरा , यह समय की बात है, “

अमेरिकी राष्ट्रपति ने यह संकेत देने की कोशिश की है कि उनके पास शुल्क लगाने के अलावा कोई और विकल्प नहीं था।

ट्रंप का मानना है कि अमेरिका पर मंदी को कोई खतरा नहीं है और यदि फेडरल रिजर्व नीतिगत ब्याज दर में कटौती करेगा तो अर्थव्यवस्था में उछाल की संभावना है।

ट्रंप ने कहा , ” हम मंदी से काफी दूर हैं। ” उन्होंने कहा कि वास्तव में , अगर फेडरल रिजर्व अपना काम करेगा , तो मुझे लगता है कि अर्थव्यस्था में मजबूती आएगी। “

राष्ट्रपति ने कहा कि वह वेतनभोगियों पर आयकर में अस्थायी कटौती और निवेश से मिले मुनाफे पर संघीय करों को मुद्रास्फीति के अनुकूल बनाने पर विचार कर रहे हैं। इससे आर्थिक वृद्धि तेजी होगी।

ट्रंप के बयान पर व्हाइट हाउस के प्रवक्ता जुड डीरे ने कहा , राष्ट्रपति को विश्वास नहीं है कि हम मंदी की ओर बढ़ रहे हैं क्योंकि उनकी नीतियों की वजह से अर्थव्यवस्था मजबूत है।

हुवावेई को नहीं है अमेरिकी प्रतिबंधों से राहत मिलने की उम्मीद