कश्मीर मुद्दे पर अमेरिका से अपेक्षित समर्थन नहीं मिलने पर पाकिस्तान ने अपना ‘अफगानिस्तान कार्ड’ इस्तेमाल करते हुए चेताया है कि वह अपनी सेना अफगानिस्तान की सीमा से हटाकर कश्मीर की सीमा पर तैनात कर सकता है।

अफगानिस्तान में शांति के लिए अमेरिका लगातार कोशिशें कर रहा है और इसी कड़ी में उसकी तालिबान से बातचीत भी चल रही है। अफगानिस्तान के मामले में पाकिस्तान की एक खास भूमिका है, उसकी तालिबान पर पकड़ मानी जाती है। ऐसे में अमेरिका को इस मामले में पाकिस्तान का साथ चाहिए। ऐसे में अफगानिस्तान सीमा से पाकिस्तानी सेना को हटाने से स्थिति पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ सकता है और सेना को वहां से हटाने का संकेत देकर पाकिस्तान परोक्ष रूप से अमेरिका पर दबाव बनाने की फिराक में है।

बालाकोट पायलट अभिनंदन को इस वजह से नहीं मिला था ‘वॉर रूम’ से मैसेज

अफगानिस्तान सीमा से पाकिस्तानी सेना को हटाकर कश्मीर सीमा पर तैनात करने की संभावना का इजहार अमेरिका में पाकिस्तान के राजदूत असद मजीद खान ने किया है। उन्होंने न्यूयॉर्क टाइम्स के संपादकीय बोर्ड के साथ एक विशेष साक्षात्कार में यह संभावना जताई, लेकिन साथ ही कहा कि अफगानिस्तान और कश्मीर दो अलग-अलग मामले हैं और वह इन दोनों को आपस में जोड़ने की कोशिश नहीं कर रहे हैं। इसके उलट, पाकिस्तान चाहता है कि तालिबान के साथ अमेरिका की वार्ता सफल हो और वह इसके लिए प्रयास कर रहा है।

साक्षात्कार में न्यूयॉर्क टाइम्स ने उनसे कहा कि पाकिस्तान ने अफगानिस्तान से लगी पश्चिमी सीमा को और मजबूत करने की बात कही थी, ताकि इस इलाके में तालिबान आतंकियों को सुरक्षित पनाहगाह मिलने से रोका जा सके और अफगानिस्तान मुद्दे का समाधान हो।

इस पर खान ने कहा, “पश्चिमी सीमा पर हम अपनी पूरी क्षमता लगा चुके हैं। अगर पूर्वी सीमा पर हालात बिगड़ते हैं तो हमें सेना की तैनाती पर (पश्चिमी सीमा से पूर्वी सीमा पर) विचार करना पड़ेगा। अभी हम इस्लामाबाद में ऐसा कुछ सोच नहीं रहे हैं सिवाय इसके जो कुछ पूर्वी सीमा पर हो रहा है।”
 

जानें क्यों एक दिन पहले 14 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाता है पाकिस्तान

पाकिस्तानी राजदूत ने कहा कि भारत द्वारा जम्मू एवं कश्मीर के विशेष दर्जे को समाप्त करने के लिए इस समय से कोई और बुरा समय हमारे लिए नहीं हो सकता था।

उन्होंने कहा कि पाकिस्तान एक ऐसा पंचिंग बैग है, जो भारत में बिकता है। खान ने कहा कि बीते कुछ हफ्तों में दोनों देशों के बीच बहुत कम संपर्क हुआ है और दुर्भाग्य से ऐसा लग रहा है कि हालात और बुरे होंगे। हालांकि, पूछे जाने पर उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि हालात किस रूप में और बुरे होंगे।

गौरतलब है कि पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार हामिद मीर ने रविवार को ट्वीट में कहा था कि उन्हें पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर के लोगों से यह जानकारी मिली है कि ‘अत्याधुनिक हथियारों से लैस पाकिस्तानी सेना शनिवार रात से ही भारत से लगी नियंत्रण रेखा की तरफ कूच कर रही है और स्थानीय लोग पूरे जोश से इनका स्वागत कर रहे हैं।’