अलेप्पो। सीरिया के उत्तरी शहर अलेप्पो में सरकार की ओर से दागे गए रॉकेटों से मरने वालों की संख्या कम से कम 11 पहुंच गई है। सोमवार को सरकारी समाचार एजेंसी सना ने जानकारी देते हुए बताया है कि हमले में कम से कम11 लोगों की मौत हो गई है। नाम सार्वजनिक न करने के शर्त पर एक पुलिस अधिकारी के हवाले से सना समाचार एजेंसी ने बताया है कि ‘आतंकी संगठन’ जो कि इदलिब के उत्तर-पश्चिम में स्थित विद्रोहियों के आस-पास आर्म्ड ग्रुप्स के लिए उपयोग किया जाता है, रविवार की रात को हमला किया था। हमले में अन्य 11 लोग अलेप्पो के पड़ोस अल-खलादिया में घायल हो गए। पुलिस के मुताबिक ये सभी आम नागरिक हैं, जिन्हें दो अलग-अलग अस्पतालो में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। आगे यह भी बताया कि अलेप्पो के भीड़ भाड़ वाले इलाके में कई रॉकेट गिराए गए। बता दें कि अलेप्पो सीरिया का दूसरा सबसे बड़ा शहर और एक प्रमुख औद्योगिक केंद्र है जो वर्षों से लड़ाई का सबसे बड़ा कारण है।

सीरिया : विद्रोहियों और सरकार के बीच हुआ अहम समझौता, थम गई गोली और बंदूक की आवाजें

इदलिब पर तहरीर अल-साम का है कब्जा

ब्रिटेन स्थित युद्ध की निगरानी करने वाली संस्था सीरियन ऑब्जर्वेटरी फॉर ह्यूमन राइट्स (एसओएचआर) ने अपनी एक रिपोर्ट में बताया है कि हयात, तहरीर अल-साम (एचटीएस) ने कई रॉकेट लॉंच किए, इसमें से 20 रॉकेट अलेप्पो के करीबी इलाकों में गिराए। एसओएचआर ने बताया है कि इस हमले में सुरक्षा में तैनात पांच लोगों की मौत हो गई। विद्रोहियों की ओर से कब्जा किए गए इदलिब आखिरी शहर है, जो कि 2011 में राष्ट्रपति बशर अल-असद की सरकार के खिलाफ शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन के तुरंत बाद एक खूनी गृहयुद्ध में शामिल हो गया था। यहां पर फिलहाल पूर्व अल-कायदा से संबंद्ध एटीएस का प्रभुत्व है। 2015 में असद की सेनाओं की ओर से रूस के सैन्य हस्तक्षेप के बाद सीरियाई सरकार की सेना विद्रोही लड़ाकों से बड़ी संख्या में ज़मीनों पर कब्जा करने में कामयाब रही। चूंकि असद की सरकार ने 2016 के अंत में अलेप्पो पर नियंत्रण हासिल कर लिया था, इसलिए सशस्त्र समूहों और विद्रोही लड़ाकों ने शहर को आंतरिक रूप से लक्षित किया है।

 

Read the Latest World News on Metrocitysamachar.com पढ़ें सबसे पहले World News in Hindi मेट्रो सिटी समाचार डॉट कॉम पर. विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here