वाशिंगटन। एक अमरीकी मैगजीन की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 27 फरवरी को भारत और पाक एयरफोर्स के बीच हुई फाइट में पाकिस्तान के F16 लड़ाकू विमानों को कोई नुकसान नहीं पहुंचा है। भारत सरकार ने कहा था कि 27 फरवरी को एक पाकिस्तानी F-16 फाइटर जेट को भारतीय वायु सेना ने एक हवाई हमले में मार गिराया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान ने ‘डॉगफाइट’ के बाद अमरीका को अपने F-16 विमानों की गिनती करने के लिए आमंत्रित किया।

भारत के दावे पर सवाल

भारत का दावा है कि उसके लड़ाकू विमानों ने फरवरी में एक संक्षिप्त संघर्ष में पाकिस्तानी एफ-16 फाइटर जेट को मार गिराया है। अब एक अमरीकी मैगजीन में प्रकाशित रिपोर्ट में कहा गया है कि यह दावा सही नहीं है। अमरीकी मैगजीन ने एक रिपोर्ट में रक्षा अधिकारियों के हवाले से दावा किया है कि अमरीकी रक्षा कर्मियों ने हाल ही में इस्लामाबाद में एफ -16 विमानों की गिनती की और कोई भी लड़ाकू विमान लापता नहीं पाया। भारतीय वायु सेना ने 28 फरवरी को पाकिस्तानी एफ -16 द्वारा दागी गई एएमआरएएएम मिसाइल के टुकड़े को सबूत के तौर पर प्रदर्शित किया था। रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत ने बार-बार पाकिस्तान के दावे पर सवाल उठाए हैं लेकिन इस बात का कोई सबूत नहीं है कि भारतीय विंग कमांडर अभिनन्दन ने पाकिस्तान वायु सेना के F-16 विमान को मार गिराया था।

पाकिस्तान के F-16 को नहीं पहुंचा कोई नुकसान

अमरीका की फॉरेन पॉलिसी मेट्रो सिटी समाचार ने कहा है कि भारत द्वारा F-16 लड़ाकू विमान को मार गिराने का दावा गलत हो सकता है।रिपोर्ट में कहा गया है, ” हो सकता है कि लड़ाई के उन्माद में अभिनंदन, जो कि मिग-21 बाइसन उड़ा रहे थे, उन्होंने पाकिस्तानी F-16 पर फायर किया हो और उन्होंने सचमुच विश्वास कर लिया कि उन्होंने विमान को मार गिराया है।” इसके अनुसार विदेशी सैन्य बिक्री के यूजर एंड समझौते के हिस्से के रूप में पाकिस्तान ने संयुक्त राज्य अमरीका को अपने एफ -16 विमानों को गिनने के लिए आमंत्रित किया। मैगजीन की रिपोर्ट्स के अनुसार अमरीकी काउंट ने पाया है कि पाकिस्तान के सभी जेट्स उसके पास मौजूद हैं। बता दें कि पाकिस्तान शुरू से भारत पर इस मामले में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को गुमराह करने का आरोप लगाता आया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here