इस्लामाबाद। पाकिस्तान पर भारत की एयर स्ट्राइक को एक महीने से अधिक बीत गया है, लेकिन अब भी वह खौफ में जी रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ( Imran Khan ) और थल सेनाध्यक्ष जनरल क़मर बाजवा ने गुरुवार को एक बार फिर सुरक्षा मुद्दों पर बातचीत की। बैठक के बाद जारी एक संक्षिप्त बयान में पीएम कार्यालय ने कहा कि सेना प्रमुख को प्रधानमंत्री खान ने पीएम हाउस बुलाया, जहां उन्होंने सुरक्षा से संबंधित विभिन्न महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की।

क्राइस्टचर्च हमला: मस्जिद हमले के आरोपी का होगा मानसिक परीक्षण, 50 लोगों की हत्या का मुकदमा शुरू

सेना प्रमुख से मिले पीएम पीएम इमरान खान

आपको बता दें कि पाक में दो दिन पहले ही कॉर्प्स कमांडरों का सम्मेलन आयोजित किया गया था। इसके दो दिन बाद ही पीएम और सेना प्रमुख की बैठक आयोजित हुई। इस बैठक में सुरक्षा मामलों पर विचार-विमर्श किया गया । इंटर-सर्विसेज पब्लिक रिलेशंस (आईएसपीआर) ने कमांडरों के सम्मेलन के बाद एक बयान में कहा कि भारतीय हमले के नए खतरों को देखते हुए सरकार और सेना पूरी तरह से मुस्तैद है। बयान में यह भी कहा गया कि सरकार और अन्य कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने हाल ही में वित्तीय कार्रवाई कार्य बल (एफएटीएफ) की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आतंकियों के खिलाफ अपने एक्शन को आगे बढ़ाया है।

पाकिस्तान: ट्विटर पर टॉप 10 में पहुंचे इमरान खान, सबसे अधिक फॉलो किए जाने वाले नेताओं की सूची में 9वें नंबर पर काबिज

भारतीय सेना का खौफ

पाकिस्तान में अब तक भारतीय सेना का खौफ जारी है। पाकिस्तान की सेना और सरकार को इस बात की चिंता सत्ता रही है कि कहीं भारत एक बार फिर कोई हमला न कर दे। इसके तहत पाक पीएम और सेना प्रमुख की यह मुलाकात काफी अहम मानी जा रही है। उधर पाकिस्तान में सेना अदालतों को लेकर एक नया विवाद पैदा होने की संभावना जताई जा रही है। इन अदालतों को अधिकार देने वाला कानून 30 मार्च को समाप्त हो गया था। सरकार का इरादा विशेष सैन्य न्यायाधिकरणों का दूसरी बार विस्तार करने का है, लेकिन उसे विपक्ष का समर्थन नहीं मिल रहा है। सरकार के पास नेशनल असेंबली में मामूली बहुमत है और सीनेट में वह अल्पमत में है।

विश्व से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर ..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here