नई दिल्ली। आरबीआई ( rbi ) नए वित्तीय वर्ष में आरबीआई की ओर से देश के लोगों को बड़ी राहत मिली है। RBI ने वित्तीय वर्ष की पहली मौद्रिक समीक्षा बैठक में रेपो रेट में 0.25 फीसदी की कटौती कर दी है। सरकार की ओर से की गई इस कटौती के बाद देश के लोगों लोन लेने के लिए कम ब्याज देना होगा। इस कटौती के बाद नई रेपो रेट 6 फीसदी हो गई है।

कम हो जाएगी EMI

आपको बता दें कि ने लगातार दूसरी बार रेपो रेट कम कर ब्याज दरों में कटौती कर दी है। आरबीआई ने रेपो रेट में 6.25 फीसदी से 6 फीसदी कर दिया है। इसके साथ ही आरबीआई ने बताया कि हमने इसको कम इसलिए किया है क्योंकि पिछले वित्त वर्ष में खुदरा महंगाई दर काफी कम थी। सरकार के इस फैसले का सबसे ज्यादा असर मध्यम वर्ग के लोगों पर पड़ेगा। हमारे देश में रहने वाले मध्यमवर्गीय लोगों की ईएमआई पहले की तुलना में काफी कम हो जाएगी।

एमसीएलआर में हुए ये बदलाव

आइए आज हम आपको बताते हैं कि साल 2016 से लेकर साल 2019 तक कई बैंकों के एमसीएलआर में काफी बदलाव किए हैं। इन बदलावों के बाद देश के ग्राहकों को काफी राहत मिली है। इसमें देश के सरकारी और प्राइवेट दोनों बैंक शामिल हैं।

MCLR में किए गए बदलाव

आपको बता दें कि साल अप्रैल 2016 में बैंक ऑफ बड़ौदा का एमसीएलआर 9.25 था, जिसको रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अप्रैल 2017 में घटाकर 8.35 कर दिया था। इसके बाद साल 2018 में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने इसको बढ़ा दिया है। इसके अलावा अन्य बैंकों के भी एमसीएलआर में काफी बदलाव किए गए हैं। सरकार के इस तरह के फैसले के बाद देश की मध्यमवर्गीय जनता को काफी फायदा मिल रहा है।

इन बैंकों के MCLR में किए गए इस तरह के बदलाव-

 

बैंकअप्रैल 2016अप्रैल 2017अप्रैल 2018अप्रैल 2019एक साल का MCLR
बैंक ऑफ बड़ौदा9.258.358.408.758.65
बैंक ऑफ इंडिया9.408.508.408.758.65
पंजाब नेशनल बैंक9.408.458.308.558.45
स्टेट बैंक ऑफ इंडिया9.208.008.158.558.55
एक्सिस बैंक9.358.258.408.908.8
HDFC बैंक9.208.158.308.758.75
ICICI बैंक9.208.208.308.808.75

 

पंजाब नेशलन बैंक

आपको बता दें कि एक दिन के लिए एमसीएलआर को 0.10 फीसदी घटाकर 8.05 फीसदी कर दिया गया है। वहीं एक महीना, तीन महीना और छह महीने के लिए एमसीएलआर को क्रमश: 8.05 फीसदी, 8.10 फीसदी और 8.15 फीसदी कर दिया गया है। वहीं आधार दर 9.25 फीसदी पर ही बनी रहेगी।

 

जल्द आएगा सर्कुलर

इसके साथ ही बैंक लोन पर आरबीआई गवर्नर ने कहा कि बैंकों द्वारा लोन दिया जाना बढ़ रहा है लेकिन यह बहुत ज्यादा बढ़ोत्तरी नहीं है। उन्होंने यह भी कहा कि बैड लोन के रिजॉल्यूशन को लेकर रिवाइज्ड सर्कुलर जल्द आएगा।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार,फाइनेंस,इंडस्‍ट्री,अर्थव्‍यवस्‍था,कॉर्पोरेट,म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें patrika Hindi News App.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here