सोमवार से शुरू हो रही आईएलएफएस परिसंपत्तियों को बेचने की प्रक्रिया

7

नई दिल्ली। नकदी संकट से जूझ रही आईएलएफएस समूह की परिसंपत्ति मौद्रीकरण योजना के दौरान पहले दौर की बोलियां सोमवार को खोली जाएंगी। यह कंपनी की समाधान योजना का हिस्सा है। सूत्रों ने जानकारी देते हुए बताया कि कंपनी के 8,000 करोड़ रुपए के नवीकरणीय ऊर्जा कारोबार के लिए आई बोलियों पर बाद में उसका निदेशक मंडल विचार करेगा।

94,000 करोड़ रुपए का कर्ज

आपको बता दें कि सरकार द्वारा उदय कोटक की अध्यक्षता में गठित किए गए कंपनी के नए निदेशक मंडल ने संकट के समाधान के तहत परिसंपत्ति मौद्रीकरण प्रक्रिया शुरू की थी। इसके तहत पहले दौर की बोलियां सोमवार को खुलेंगी। कंपनी पर करीब 94,000 करोड़ रुपए का कर्ज है।

निवेश को बेचने का निर्णय लिया

पिछले साल नवंबर में कंपनी ने अपने सड़क, शिक्षा, नवीकरणीय ऊर्जा समेत कई क्षेत्रों में निवेश को बेचने का निर्णय किया था। कंपनी के नवीकरणीय कारोबार के तहत वर्तमान में कुल 873.5 मेगावाट के पवन ऊर्जा संयंत्र परिचालन में हैं। जबकि 104 मेगावाट क्षमता के संयंत्र निर्माणाधीन हैं। नवीकरणीय कारोबार के तहत उसके सौर ऊर्जा संयंत्र शामिल हैं जिनमें करीब 300 मेगवाट क्षमता के संयंत्र निर्माणाधीन हैं।

( ये न्यूज भाषा से ली गई है। )

Read the Latest Business News on Metrocitysamachar.com पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में मेट्रो सिटी समाचार पर