नई दिल्ली। देश की दिग्गज फार्मा कंपनी फोर्टिस हेल्थकेयर ने बाजार नियामक से उसकी पूर्व प्रोमोटर्स पर कानूनी कार्रवाई करने व अरेस्ट करने की मांगी की है। कंपनी ने सेबी से मांग में 472 करोड़ रुपए रिकवर करने व उससे संबंधित विवादों को लेकर किया है। रकम रिकवरी को लेकर फोर्टिस ने अपने एप्लिकेशन में कहा है कि फोर्टिस हेल्थकेयर व फोर्टिस हाॅस्पिटल्स ने सेक्शन 28A की मदद से मलविंदर मोहन सिंह व शिविंदर सिंह, आरएचसी होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, शिवि होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, मालव होल्डिंग्स प्राइवेट लिमिटेड, रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड, बेस्ट हेल्थकेयर प्राइवेट लिमिटेड, फर्न हेल्थेकयर प्राइवेट लिमिटेडव मोडलैंड वियर्स प्राइवेट लिमिटेड से रकम रिकवर किया जाए।

सेबी के आदेश के बाद शुरू हुई थी कानूनी कार्रवाई

फोर्टिस हेल्थेकयर ने भारतीय प्रतिभूति और विनियम बोर्ड से इन मामलों पर व्यक्तिगत रूप से सुनवाई करने की भी मांग की है। इस पर फोर्टिस हेल्थेकयर लिमिटेड के चेयरमैन रवि राजागोपाल ने कहा, “सेबी द्वारा अक्टूबर 2018 व फिर दिसंबर 2018 में आदेश मिलने के बाद हमने रिकवरी के लिए कानूनी प्रक्रिया शुरू कर दी थी। कंपनी की तरफ से सभी 9 पार्टियों को नोटिस भेजा जा चुका है।” 18 जनवरी 2019 को फोर्टिस को रकम जाम करने की तारीख एक्सपायर हो चुकी है। 13 फरवरी को फोर्टिस ने सेबी को एक याचिका दायर किया था ताकि कानूनी कार्रवाई शुरू किया जा सके। यह कार्रवाई सिंह ब्रदर्स व अन्य ईकाईयों के खिलाफ होनी है।

फोर्टिस को रिकवर करनी है 472 करोड़ रुपए

राजागोपल के मुताबिक, कंपनी बाजार नियामक से सिंह ब्रदर्स को कंपनी के प्रोमोटस के तौर पर भी अलग करने वाली मंजूरी का इंतजार कर रही है। उन्होंने आगे कहा कि फोर्टिस के पहले बोर्ड का संबंध दोनों भाइयों से था आैर 472 करोड़ रुपए की रिकवरी के लिए लाॅ फर्म लुथरा एंड लुथरा की मदद ली जा रही थी। लाॅ फर्म की रिपोर्ट के बाद कंपनी ने कानूनी कार्रवाई की प्रक्रिया को शुरू कर दिया था। कंपनी ने कहा कि उसने सेबी, SFIO को अपनी रिपोर्ट जमा कर दी है।

Read the Latest Business News on Metrocitysamachar.com पढ़ें सबसे पहले Business News in Hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में मेट्रो सिटी समाचार पर।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here