टाटा संस की हुई एयर एशिया इंडिया, 51 फीसदी शेयरों के हुए मालिक

4

नई दिल्ली। देश की किफायती एयरलाइंस कंपनी एयर एशिया इंडिया अब टाटा संस की हो गई है। अब टाटा संस के पास एयरलाइंस के सबसे ज्यादा शेयर हैं। वास्तव में टाटा ट्रस्ट्स के मैनेजिंग ट्रस्टी आर. वेंकटरमणन और टीसीएस के पूर्व सीईओ एस. रामदुरई ने अपने शेयर टाटा संस को बेच दिए हैं। साथ कंपनी के बोर्ड से भी दोनों ने इस्तीफा दे दिया है। जिसके बाद टाटा संस एयरलाइन सबसे ज्यादा शेयर होल्डर हो गए हैं।

इन दोनों ने टाटा संस को बेचे अपने शेयर
टाटा ट्रस्ट्स के मैनेजिंग ट्रस्टी आर. वेंकटरमणन और टीसीएस के पूर्व सीईओ एस. रामदुरई ने बजट एयरलाइंस कंपनी एयर एशिया इंडिया में अपनी हिस्सेदारी टाटा संस को बेचने के बाद बोर्ड से इस्तीफा दे दिया है। जिसके बाद दोनों का दो साल का संबंध खत्म हो गया है। हाल में टाटा ट्रस्ट छोडऩे वाले वेंकटरमणन और रामदुरई की एयरएशिया में क्रमश: 1.5 फीसदी और 0.5 फीसदी हिस्सेदारी थी। वेंकटरमणन 31 मार्च तक टाटा ट्रस्ट से जुड़े रहेंगे।

51 फीसदी हो गई टाटा संस की हिस्सेदारी
दोनों के टाटा संस को शेयर बेचने के बाद 111 अरब डॉलर कीमत वाली टाटा ग्रुप की होल्डिंग कंपनी टाटा संस एयर एशिया इंडिया का सबसे बड़ा शेयरधारक बन गया है, जिसकी कंपनी में हिस्सेदारी 51 फीसदी हो गई है। बाकी 49 फीसदी शेयर मलेशिया की कंपनी एयर एशिया के पास हैं।