अब ब्लाॅकचेन तकनीक का इस्तेमाल करना चाहता है फेसबुक, विकासित कर रही खुद की क्रिप्टोकरेंसी

4
0 Shares

नर्इ दिल्ली। आप जल्द ही फेसबुक में ब्लॉकचेन-आधारित प्रमाणीकरण से लॉग इन कर सकते हैं। कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी मार्क जकरबर्ग ने यह संकेत दिया है। हावर्ड के लॉ प्रोफेसर जोनाथन जिट्टरेन को बुधवार देर रात दिए एक सार्वजनिक साक्षात्कार में जकबर्ग ने कहा कि वे फेसबुक लॉग इन को ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी के माध्यम से करने के ‘इच्छुक’ हैं। जकरबर्ग ने जिट्टरेन से कहा, “मैं वापस विकेंद्रीकरण या ब्लॉकचेन प्रमाणीकरण के बारे में सोच रहा हूं। हालांकि मैं इसे लागू करने का तरीका पूरी तरह से विकसित नहीं कर पाया हूं, लेकिन मूल रूप से आपकी जानकारी और विभिन्न सेवाओं तक पहुंच प्रदान कर रहा है।”

यह भी पढ़ें – 6 करोड़ अंशधारकों को मोदी सरकार ने दिया तोहफा, बढ़ गई PF पर मिलने वाली ब्याज दर

उनके मुताबिक, ब्लॉकचेन यूजर्स को अधिक शक्ति प्रदान करेगा, जब वे थर्ड-पार्टी के जेटा एक्सेस की अनुमति देंगे। फेसबुक ने पिछले साल अपने एक वरिष्ठ इंजीनियर इवान चेन को पदोन्नत कर अपने हाल में लांच ब्लॉकचेन खंड का इंजीनियरिंग निदेशक नियुक्त किया था। इससे पहले मई में फेसबुक ने कंपनी के भीतर ब्लॉकचेन प्रौद्योगिकी में संभावना तलाशने के लिए एक समूह का गठन किया था जिसका प्रमुख मैसेंजर के प्रमुख डेविड मारकौस को नियुक्त किया गया था। मीडिया रिपोर्ट्स में यह भी कहा गया कि फेसबुक खुद का क्रिप्टोकरेंसी विकसित कर रहा है। फेसबुक के दुनिया भर में 2.3 अरब यूजर्स हैं और क्रिप्टोकरेंसी लांच करने से वे बिटकॉयन जैसे वर्चुअल करेंसी में भुगतान कर सकेंगे।

लोकेशन सेटिंग्स सुधारा, एंड्रायड के लिए नए प्राइवेसी कंट्रोल जोड़े

फेसबुक अपने एंड्रायड एप में एक नया प्राइवेसी कंट्रोल फीचर जोड़ने जा रही है, जो यूजर्स को एप्स को उनके बैकग्राउंड लोकेशन की जानकारी इकट्ठा करने और सेव करने से रोकेगा। फेसबुक के इंजीनियरिंग निदेशक (लोकेशन अवसंरचना) पॉल मैकडोनाल्ड ने बुधवार को एक ब्लॉग पोस्ट में कहा, “एंड्रायड के लिए फेसबुक पर एक नया बैकग्राउंड लोकेशन कंट्रोल शुरू कर रहे हैं, ताकि लोग यह चुन सकें कि जब वे एप का इस्तेमाल नहीं कर रहे हों, उस वक्त हम स्थान की जानकारी को एकत्र करें या नहीं।”

0 Shares