शेयर बेचकर 84 करोड़ डॉलर जुटाएगी जेट एयरवेज, तीसरी तिमाही में कंपनी को 588 करोड़ का घाटा

2

नई दिल्ली। वित्तीय परेशानियों का सामना कर रही है नरेश गोयल की जेट एयरवेज अब फंडिंग जुटाने के लिए विशेष योजना बना रही है। जेट एयरवेज अब सरकारी फंड व राइट्स इश्यू की मदद से 84 करोड़ डाॅलर की फंडिंंग जुटाने वाली है। न्यूज एजेंसी राॅयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक, नेशनल इन्वेस्टमेंट एंड इन्फ्रास्ट्रक्चर फंड 20 फीसदी हिस्सेदारी के बदले जेट एयरवेज को 150 अरब रुपए की कीमत तय कर सकती है। वहीं, राइट्स इश्यू के जरिए जेट एयरवेज 45 अरब रुपए जुटाएगी। इसके लिए कंपनी की प्रति शेयर की कीमत 125-150 रुपए तय की जा सकती है।

बढ़त के साथ बंद हुए जेट एयरवेज के शेयर्स

बीते दिन यानी गुरुवार को ही इस बात की जानकारी दी गई थी कि जेट एयरवेज ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की नेतृत्व में बैंकों के समूह की तरफ से पेश किए गए समाधान को मंजूरी दे दी है। इसके बाद शुक्रवार को कारोबार के दौरान जेट एयरवेज को स्टाॅक्स में उतार-चढ़ाव देखने को मिला। सप्ताह के अंतिम कारोबारी दिन जेट एयरवेज के शेयर गिरावट के साथ खुले लेकिन बाद में इसमें 2.99 फीसदी की तेजी दर्ज की गई। दिनभर के कारोबार के बाद जेट एयरवेज के शेयर्स 232.55 रुपए प्रति शेयर के भाव पर बंद हुए।

 

तीसरी तिमाही में कंपनी को 587.77 करोड़ रुपए का घाटा

चालू वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज को घाटा हुआ है। तीसरी तिमाही में जेट एयरवेज को कुल 587.77 करोड़ रुपए का घाटा हुआ। जबकि, पिछली तीमाही की सामान अवधि में कंपनी को 165.25 करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था। एक्सचेंज को दी गई जानकारी में जेट एयरवेज ने कहा कि तीसरी तिमाही में उसका राजस्व 6,147.98 करोड़ रुपए रहा। पिछले साल की सामान अवधि में यह 6,086.20 करोड़ रुपए रहा था। आपको बता दें कि लगातार चौथी तीमाही में कंपनी को यह नुकसान हुआ है।
Read the Latest Business News on Patrika.com. पढ़ें सबसे पहले Business news in hindi की ताज़ा खबरें हिंदी में पत्रिका पर।