नर्इ दिल्ली। सरकारी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक यानी भारतीय स्टेट बैंक ( SBI ) अपने ब्याज दरों को लेकर आगामी एक मर्इ से नए नियम लागू करने जा रहा है। एसबीआर्इ द्वारा इस नए नियम के लागू किए जाने के बाद बैंक के करीब 40 करोड़ ग्राहकों पर असर पड़ेगा। अगर आप भी इस बैंक के ग्राहक हैं तो आपके इससे जुड़ी कुछ अहम जानकारी के बारे में जरूर जानना चाहिए। आज हम आपको यही जानकारी देने जा रहे हैं।

डिपाॅजिट आैर लोन की ब्याज दरों को आरबीआर्इ बेंचमार्क से जोड़ा

भारतीय स्टेट बैंक ने अपने डिपाॅजिट आैर लोन की ब्याज दरों को आरबीआर्इ के बेंचमार्क से जोड़ दिया है। एेसे में भारतीय रिजर्व बैंक ( RBI ) जब भी अपने मौद्रिक समीक्षा नीति बैठक में रेपो रेट आैर रिवर्स रेपो रेट में कोर्इ बदलाव करता है तो इसका सीधा असर बैंक में जमा आपकी रकम पर मिलने वाले ब्याज दरों आैर लोन की दरों पर पड़ेगा।

जमा रकम पर कम मिलेगा ब्याज

एसबीआर्इ ने इस नियम को लागू करने से पहले यह भी साफ कर दिया है कि यह १ लाख रुपए या उससे अधिक जमा आैर लोन की रकम पर ही लागू होगा। बैंक ने कहा है कि यह नियम आगामी एक मर्इ से प्रभावी होगा। इस नियम के लागू होने के बाद बैंक में जमा अापके रकम पर पहले की तुलना में कम ब्याज मिलेगा, जिसका असर एसबीआर्इ के करीब 95 फीसदी ग्राहकों पर पड़ेगा। वर्तमान में जहां ग्राहकों को एक लाख रुपए जमा करने पर 3.5 फीसदी की दर से ब्याज मिलता था वहीं अब 3.25 फीसदी ही ब्याज दर मिलेगा।

आरबीआर्इ ने घटाया था रेपो रेट

गौरतलब है कि हाल ही में केंद्रीय बैंक ने अपने मौद्रिक समीक्षा नीति बैठक में रेपो रेट आैर रिवर्स रेपो रेट में 25 आधार अंक यानी 0.25 फीसदी की कटौती किया था। केंद्रीय बैंक के इस फैसले के बाद कर्इ बड़े बैंकों ने अपने एमसीएलआर में कटौती किया हैं। एसबीआर्इ ने भी लोन की ब्याज दरों में 0.05 फीसदी की कटौती की है। 30 लाख रुपए तक के होम लोन पर भी एसबीआर्इ ने 0.10 फीसदी की कटौती की है।

Business जगत से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter पर और पाएं बाजार, फाइनेंस, इंडस्‍ट्री, अर्थव्‍यवस्‍था, कॉर्पोरेट, म्‍युचुअल फंड के हर अपडेट के लिए Download करें Patrika Hindi News App.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here