नालासोपारा शहर में ऑटो रिक्शे वालों का आतंक, राहगीरों का राह चलना हुआ मुहाल

3173

जाम के झाम में फंसने के लिए मजबूर आम जनता

ट्रैफिक जाम की भी बढ़ी समस्या,डग्गामार वाहनों पर ट्रैफिक पुलिस मेहरबान

नालासोपारा:- शहर में बढ़ते ऑटो रिक्सा की संख्या का असर अब सड़कों पर चलने वाले राहगीरो के साथ होने वाले दुर्व्यहवार के रूप में देखने को मिल रहा है। तुलिंज पुलिस स्टेशन के सामने और ब्रिज के नीचे सैकड़ो की संख्या में ऑटो रिक्शा चालको का जमावड़ा रहता है। उस राह से गुजरने वाले महिलाओं के साथ छीटाकशी एवं दो पहिया वाहन चालकों के साथ मारपीट होना तो आम बात है।

30 फीट की सड़क पर चार लेन में ऑटो रिक्शा वालो का कब्जा बना रहता है। जिसके कर उस मार्ग से गुजरने वाले वाहन चालको व पैदल चलने वाले राहगीरों का उस राह से गुजरना मुश्किल हो चुका है। उधर से जाने वाले वाहन चालकों को अक्सर ऑटो वालो के कोपभाजन का शिकार होना पड़ता है। जिसके चलते कई बार नौबत मारपीट तक पहुच जाती है। लेकिन रिक्शा चालकों की संख्या के आगे राहगीर को चुपचाप निकलने में ही अपनी भलाई समझ मे आती है। ऐसे में यदि किसी ने उनसे उलझने की कोशिश की तो रिक्शा चालक एक जुट होकर उसकी पिटाई कर देते है।

मजे की बात तो यह है कि उक्त स्टैंड के ठीक सामने ही तुलिंज पुलिस स्टेशन है, लेकिन उन्हें इसका भी भय नही, क्योकि कुछ भी होने पर सैकड़ो की संख्या में चालक तुरंत पुलिस चौकी के बाहर एकत्र हो जाते है। जिसके कारण मनबढ़ रिक्शा चालक,लोगो को खुले रूप से चुनोती देते नजर आते है ।उनका कहना है कि हमें परमिट मिला है, सड़कों पर रिक्शा खड़ा करना मेरा अधिकार है।

जबकि इनके द्वारा सड़क पर चार लेन में बेतरतीब ढंग से खड़े किये जाने वाहनों के कारण लोगों को सुबह शाम घण्टों भीषण जाम का सामना करना पड़ता है। वही दूसरी ओर आमलोगों का कहना है कि यदि मोटर सायकिल चालक अपने वाहन पर तीन सवारी लेकर चलते दिखा तो वह अपराधी, लेकिन ऑटो पांच सवारी लेकर ड्यूटी पर तैनात पुलिस कर्मियों के सामने से जाते है, इसके बावजूद उनपर कार्यवाही नही की जाती। आखिर इसके पीछे का कारण क्या है। जिसे लेकर ट्रैफिक पुलिस के कार्यशीली पर सवालिया निशान लग रहे हैं।

30 फ़ीट की सड़क पर चार लेन में रिक्शे खड़े रहते हैं।साथ ही उल्टी दिशा में गलत तरीके से रिक्शे चलाये जाने की वजह से सड़कों पर प्रतिदिन घण्टों जाम की स्थिति बनी रहती है। ट्रैफिक पुलिस की दलील है कि उनके पास स्टाफ कम है जिसकी वजह से सिग्नल के नियमों का अनुपालन करवा पाना मुश्किल हो रहा है लेकिन जमीनी हकीकत यह है कि नालासोपारा पूर्व स्थित ब्रिज के नीचे ट्रैफिक पुलिसकर्मियों का जमावड़ा लगा रहता है ।
बावजूद इसके मनबढ़ रिक्शा ड्राइवर ट्रैफिक जाम करते हुए परमिट नियमों के विरुद्ध 3 की जगह 5 से 6 सवारियां बिठाते हैं जिस पर ट्रैफिक पुलिस मौन साधे रहती हैै।आखिर क्यों?

आम लोगों का कहना है कि जब दुपहिया वाहन पर तीन लोगों के बैठने पर कार्यवाही की जाती है तो फिर 3 की परमिट पर 6 लोग पुलिस के सामने बैठाए जाते हैं।ऐसे में ट्रैफिक पुलिस नियमों का अनुपालन नहीं करवा पा रही। जिससे पुलिस की कार्यशीली पर सवालिया निशान लग रहे हैं।

डग्गामार मैजिक का रात को चलता है मैजिक

नालासोपारा पूर्व स्थित फ्लाईओवर ब्रिज के नीचे प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में बिना परमिट,बिना लाइसेंस वाले मैजिक,ऑटो जैसे वाहन चलवाये जा रहे हैं जिनके पास आवश्यक कागजातों का अभाव है । एक तरफ हजारों की संख्या में वैध -अवैध रिक्शा वाले सड़क पर जाम लगाये रखते हैं उस पर अवैध मैजिक कोढ़ में खाज की स्थित उत्पन्न कर रहे हैं।अगर जल्दी ही इस स्थिति से निबटने की रणनीति नहीं बनाई गई तो स्थिति विस्फोटक हो सकती है।