एयर स्ट्राइक को लेकर महबूबा के अलग सुर

68

नई दिल्ली: पाकिस्तान में आतंकी शिविरों पर भारत की स्ट्राइक के बाद जहां ज्यादातर राजनीतिक दलों के नेताओं ने वायुसेना की जमकर तारीफ की वहीं पीडीपी प्रमुख और जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस मामले पर अलग ही राय जाहिर की है. महबूबा मुफ्ती ने कहा है कि लोग जंग की संभवानाओं को लेकर खुशी मना रहे हैं. उन्होंने कहा कि यह सही मायनों में जहालत है. 

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट करके कहा, ‘आज भारतीय वायुसेना के हमले के बाद ट्विटर और न्यूज चैनलों पर बड़े पैमाने पर युद्धोन्माद हुआ. उन्होंने कहा कि यह दुख की बात है कि पढ़े-लिखे लोग की जंग की संभावना पर खुशी मना रहे हैं. यह सही मायनों में जहालत है.

 India's Air Strike on PAK: Mehbooba Mufti expresses different opinions

अपने एक ट्वीट में महबूबा ने कहा, अगर मेरा प्रतिरोध गैरजरूरी है और लोग मेरे राष्ट्रवाद पर सवाल उठाते हैं तो ऐसा ही हो. मैं शांति का पक्ष लूंगी. मैं लोगों की जान बचाने का रास्ता चुनूंगी.

 India's Air Strike on PAK: Mehbooba Mufti expresses different opinions

वहीं अपने एक अन्य ट्वीट में महबूबा ने कहा, पुलवामा हमले ने निसंदेह देश के महौल को खराब कर दिया है. लोग खून और बदले के लिए पागल हो रहे हैं. लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि हिंसा से हिंसा ही पैदा होगी. उन्होंने कहा कि दुनिया के किस हिस्से में शांति का पक्ष लेना और अर्थहीन हिंसा का विरोध करने पर किसी को गद्दारी कहलाता है. 

 India's Air Strike on PAK: Mehbooba Mufti expresses different opinions

उन्होंने कहा कि केवल आशा और प्रार्थना कर सकते हैं कि अच्छी भावना जल्द ही प्रबल हो. जम्मू और कश्मीर को और कितना नुकसान होगा? कितनी देर तक हम खामियाजा भुगतेंगे.

 India's Air Strike on PAK: Mehbooba Mufti expresses different opinions

मंगलवार तड़के की भारत ने एयर स्ट्राइक 
बता दें भारत के विदेश सचिव विजय गोखले ने बताया कि भारतीय वायु सेना ने मंगलवार को तड़के सीमापार स्थित आतंकी गुट जैश ए मोहम्मद के ठिकाने पर बड़ा एकतरफा हमला किया जिसमें बड़ी संख्या में आतंकवादी, प्रशिक्षक, शीर्ष कमांडर और जिहादी मारे गए . 

विदेश सचिव ने बताया कि पाकिस्तान स्थित आतंकी गुट जैश ए मोहम्मद के बालाकोट में मौजूद सबसे बड़े प्रशिक्षण शिविर पर खुफिया सूचनाओं के बाद की गई यह कार्रवाई जरूरी थी क्योंकि आतंकी संगठन भारत में और आत्मघाती हमले करने की साजिश रच रहा था.

गौरतलब है कि 12 दिन पहले जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर किए गए आत्मघाती हमले में बल के 40 जवान शहीद हो गए थे. इस हमले की जिम्मेदारी जैश ए मोहम्मद ने ली थी.

विदेश सचिव ने बताया कि विश्वसनीय खुफिया जानकारी मिली थी कि 12 दिन पहले पुलवामा हमले को अंजाम देने के बाद जैश ए मोहम्मद भारत में और आत्मघाती आतंकी हमले करने की साजिश रच रहा है. इसके लिए फिदायीन जिहादियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है. गोखले ने कहा कि आसन्न खतरे को देखते हुए, एकतरफा कार्रवाई ‘अत्यंत आवश्यक’  थी .