रिलायंस जियो के ब्रॉडबैंड प्लान गीगाफाइबर के आगाज के बाद डीटीएच कंपनियों में भगदड़ मच सकती है। विश्लेषकों का कहना है कि जियो के आने के बाद जिस तरह एयरटेल, वोडाफोन-आइडिया और अन्य दूरसंचार कंपनियों को झटका लगा है, वैसा अब डीटीएच सेवा के साथ हो सकता है।

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच का कहना है कि इससे डीटीएच बाजार और केबल टीवी सेवा क्षेत्र में तगड़ी प्रतिस्पर्धा शुरू होगी। कुछ कंपनियों के विलय और अधिग्रहण जैसी संभावनाएं भी बन सकती हैं। हाल ही में खबर थी कि एस्सेल समूह के स्वामित्व वाली डिश टीवी को जल्द ही भारती एयरटेल खरीद सकता है। विलय के बाद एयरटेल सबसे बड़ी डीटीएच कंपनी के रूप में उभरेगी। दोनों कंपनियां इस महीने के अंत में इसका ऐलान कर सकती हैं। 

जियो गीगाफाइबर के तहत 700 रुपये के बेसिक प्लान में मुफ्त फोन कॉलिंग और इंटरनेट के साथ एचडी टीवी देखने का पैकेज एक में ही मिलेगा। रिपोर्ट के अनुसार, डीटीएच कंपनियों पर इसका सबसे बुरा असर होगा, क्योंकि ये अभी दोहरी सेवाएं देने को तैयार नहीं है। उनकी कमाई काफी घट सकती है। अगर जियो टीवी पर बेहतरीन गुणवत्ता का वीडियो कंटेंट लाता है तो लंबे समय में नेट फ्लिक्स और अमेजन प्राइम पर भी असर दिखाई देगा। हालांकि एयरटेल और अन्य कंपनियों की ब्रॉडबैंड सेवाओं पर ज्यादा असर नहीं दिख रहा, क्योंकि भारत में इसकी पहुंच पहले ही काफी कम है।  एचएसबीसी का कहना है कि वायरलेस इंटरनेट में ग्राहकों के लिए कंपनियां बदलना आसान है, लेकिन फिक्स्डलाइन ब्रॉडबैंड की पहुंच बढ़ाने के लिए जियो को काफी मेहनत करनी होगी। हैथवे, डेन और जीटीपीएल हैथवे जैसी कंपनियों में रिलायंस की पहले ही हिस्सेदारी है और वे 350 से 400 रुपये में पहले ही 50 एमबीपीएस की गति के साथ साथ ब्रॉडबैंड मुहैया करा रही हैं। ऐसे में इसका असर 4-5 साल में ही दिखाई दे सकता है। केबल टीवी के लिए रिलायंस ने खुद 30 हजार ऑपरेटरों के साथ समझौता किया है, ऐसे में उन्हें कारोबार विस्तार का नया मंच मिल सकता है। 

 

फर्स्ट डे फर्स्ट शो से मल्टीप्लेक्स प्रभावित नहीं होंगे
रिलायंस के प्रीमियम ऑफर में टीवी पर ही रिलीज के पहले दिन ही फिल्म दिखाने की पेशकश पर मल्टीप्लेक्स कंपनियों पीवीआर और आईनॉक्स ने कहा है कि उनके कारोबार पर असर नहीं होगा। पीवीआर का कहना है कि सिनेमाघर में फिल्म देखने और घर पर फिल्म देखने का अनुभव अलग है और इसका अपना महत्व है। पीवीआर देशभर में 800 पर्दों पर फिल्म प्रदर्शन करती है। 600 पर्दों पर फिल्म प्रदर्शन करने वाली आईनॉक्स लीस्योर ने कहा कि देश में अभी फिल्म निर्माता, वितरक और मल्टीप्लेक्स मालिकों के बीच साझा सहमति है। इसके तहत फिल्म को सिनेमाघर में रिलीज किए जाने के बाद उसे आठ हफ्ते तक किसी अन्य माध्यम पर रिलीज नहीं किया जाता है। अत: सिनेमाघरों को आठ हफ्ते तक फिल्म प्रदर्शित करने का विशेष समय मिलता है। पीवीआर और आइनॉक्स के शेयर में दो से 2.5 प्रतिशत की गिरावट रही