chandra grahan 2019: चंद्रग्रहण के कारण नहीं हो सकेंगे 13 घंटे मंदिर के आराध्य के दर्शन

0
8

16 जुलाई को चंद्रग्रहण होने के कारण शहर के सभी प्रमुख मंदिरों के पट शाम को चार बजे सूतक लगने के कारण बंद हो जाएंगे। जो दूसरे दिन बुधवार सुबह खुलेंगे। यानि चंद्रग्रहण के कारण 13 घंटे मंदिर के आराध्य के दर्शन नहीं हो सकेंगे। 

भारतीय समय के अनुसार यह रात में 1 बजकर 31 मिनट पर, ग्रहण का मध्य भर में 3 बजकर 1 मिनट ,एवं चन्द्र ग्रहण का मोक्ष 4 बजकर 30 मिनट पर होगा। ग्रहण की कुल अवधि 2 घंटे 59 मिनट होगी। भारत के साथ ही यह ग्रहण आस्ट्रेलिया, अफ्रीका, एशिया, यूरोप और दक्षिण अमेरिका में भी दिखाई देगा।

चंद्र ग्रहण 2019: 16 जुलाई को होगा चंद्र ग्रहण, भूल कर भी न करें ये काम

श्री मनकामेश्वर महादेव मंदिर के महंत योगेश पुरी ने बताया कि 16 जुलाई को मंगलवार है। उसी दिन ग्रहण पड़ रहा है। ऐसे में मंदिर के पट शाम चार बजे बंद कर दिए जाएंगे। पूरी रात बंद रहने के बाद सुबह 4 बजकर 45 मिनट पर खुलेंगे। कैलाश मंदिर के महंत महेश गिरी ने बताया कि चंद्रग्रहण के कारण शाम को चार बजे मंदिर के पट बंद हो जाएंगे।

chandra grahan 2019: चन्द्र ग्रहण के बाद स्नान और दान से मिलेगा फल

शाम की आरती मंदिर के बाहर दीपक जलाकर की जाएगी। शाम को चार बजे से रात नौ बजे तक सत्संग होगा। दूसरे दिन सुबह साढ़े चार बजे मंदिर के पट भक्तों के लिए खोले जाएंगे। बल्केश्वर महादेव मंदिर के महंत सुनील कांत नागर और कपिल नागर ने बताया कि चंद्रग्रहण का सूतक के कारण करीब 13 घंटे मंदिर के पट बंद रहेंगे। दूसरे दिन भक्तों को आराध्य दर्शन देंगे।