देश में इन दिनों चुनावी सरगर्मी तेज है। आम से लेकर खास चुनावी रंग में नजर आ रहा है। सभी कलाकार लोगों से वोट डालने की अपील कर रहे हैं। इस बीच कुछ ऐसी भी खबरें आईं कि आलिया भट्ट (Alia Bhatt) लोकसभा चुनाव में वोट नहीं कर सकती हैं। दरअसल आलिया की मां सोनी राजदान (Soni Razdan) के पास ब्रिटिश की नागरिकता है वहीं आलिया के पास भी ब्रिटिश पासपोर्ट है। इस वजह से वह चुनाव में वोट नहीं डाल सकती हैं। बॉलीवुड एक्ट्रेस पायल रोहतगी ने इसी बात का मुद्दा बनाते हुए अपने सोशल मीडिया पर आलिया और सोनी राजदान के खिलाफ हल्ला बोला है।

 

payal-rohatgi-comment-on-alia-bhatt-and-her-mother-soni-razdan

हाल में पायल रोहतगी ने अपना एक वीडियो जारी किया है जिसमें वह सोनी राजदान को गलत जानकारी के साथ ट्टीट करने और देश वासियों को वोट देने को लेकर भटकाने जैसे आरोप लगा रही हैं। पायल कहती हैं, ‘सोनी राजदान एक इंडियन मुस्लिम नहीं है, वह एक ब्रिटिश मुस्लिम है। यह खबर मुझे कल मिली। मुझे अभी तक लग रहा था कि वह एक भारतीय मुस्लिम हैं। वह महेश भट्ट साहब की दूसरी पत्नी हैं। सोनी से शादी करने के लिए महेश भट्ट ने इस्लाम कबूल किया था। शायद उनकी पहली पत्नी ने उन्हें डिवॉर्स नहीं दिया था। तो ट्रिपल तलाक के चलते सोनी महेश भट्टी की दूसरी पत्नी बनीं। शायद उनकी लीगली वाइफ भी नहीं हैं। अगर महेश भट्ट साहब ने अपनी पहली पत्नी को तलाक नहीं दिया है तो।’

payal-rohatgi-comment-on-alia-bhatt-and-her-mother-soni-razdan

 

पायल वीडियो ने आगे कहा, ‘सोनी राजदान जो कि एक लीगल इंडियन सिटिजन भी नहीं है वह सोनी अपने ट्विटर वैरिफइड अकाउंट से इंडियन लोगों को कह रही हैं कि जुनैद नाम का एक बच्चा जो कि मौबलिंचिंग का शिकार हुआ था। ट्रेन में इस बच्चे के साथ सीट शेयरिंग इशू हुआ था। इस घटना की वह तस्वीर भी शेयर करती हैं। जो हमारे देश के नागरिक भी नहीं है वह वोटर्स को भड़का रहे हैं। भारत में इतने साल रहने के बाद वह इंडियन सिटीजन नहीं बन जाते। सोनी राजदान अपने ट्विटर से ये गलत जानकारी देते हुए कहती हैं ‘वोट करते समय वो जुनैद को याद रखें। जो जुनैद एक नॉर्मल फाइट की वजह से मर गया था न कि बीफ रिलेटिड मॉबलिंचिंग के चलते मरा था। ऐसे ट्वीट्स से वोटर प्रभावित हो सकते हैं लोकसभा इलेक्शन शुरू हो चुके हैं। जिन्हें सच नहीं मालूंम वह इससे भटक सकते हैं।’ पायल ने आगे बताया, कहती हैं- ‘कुछ दिन पहले अमित शाह जी ने कहा था कि वह एनआरसी लागू करेंगे, अगर बीजेपी की सरकार दोबारा आई तो। जैसे रजिस्टर मेंटेन है असम में वैसे ही यहां भी होगा। इसमें भारत में जो ब्रिटिश मुस्लिम अवैध रूप से रह रहे हैं उन्हें बाहर निकाला जाएगा।’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here