राहु एक छाया ग्रह है। कुंडली में राहु की स्थिति हमारे जीवन को बहुत प्रभावित करती हैं। राहु अगर शुभ स्थिति में हो तो आपको सभी कार्यों में सफलता मिलती है। साथ ही धन,दौलत और सुख-समृदधि भी जीवन में बनी रहती है लेकिन यही राहु अगर कुंडली में विपरीत स्थिति में हो तो इसका जीवन पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। राहु के ही प्रभाव के चलते एक अच्छे भले मनुष्य की बुद्धि पर ताले पड़ जाते हैं और व्यक्ति ऐसे निर्णय ले लेता है जिसके दुष्परिणाम उसे भुगतना पड़ सकता है। ऐसे में ज्योतिषविद्या में राहु की बुरी दृष्टि से बचने के लिए कुछ उपाय बताए गए हैं। इन उपायों को अपनाकर हम जीवन में सुख-शांति ला सकते हैं। आइए हम बताते हैं क्या हैं यह 8 उपाय।

2/7राहुमंत्र का जाप

ज्योतिषशास्त्र कहता है कि राहु की विशेष कृपा पाने के लिए राहुमंत्र का हरदिन एक माला जाप करें।  ‘ऊँ कयानश्चित्र आभुवदूतीसदा वृध: सखा कयाशश्चिष्ठया वृता’ यह राहु का वैदिक मंत्र है। इस मंत्र का जाप रात के समय करना चाहिए और शनिवार से मंत्र जाप आरंभ करने चाहिए। इससे राहु की कृपा प्राप्त होती है।

3/7सोमवार का करें व्रत

चूंकि राहु खुद भोलेनाथ के भक्त हैं इसलिए शिव के दिन सोमवार को व्रत करने से शिवजी की आसीम कृपा मिलती है। राहु के अशुभ फल से बचने के लिए सोमवार का व्रत और पूजा अवश्य करनी चाहिए।

5/7शनिवार की शाम को करें यह उपाय

शनिवार की शाम को काले,नीले फूल, नारियल, मूली,सरसों, नीलम,कोयले, सिक्के और नीले वस्त्र किसी कोढ़ी व्यक्ति को दान करके राहु के बुरे प्रभाव से बचा जा सकता है। शनिवार की शाम को काले कपड़े में एक नारियल और ग्यारह साबुत बादाम बांधकर बहते जल में प्रवाहित करके राहु ग्रह को प्रसन्न रख सकते हैं।

6/7 जौ और चंदन

सोने के स्थान पर अपने सिरहाने के समीप जौ रखकर सोएं और सुबह इसका दान करने से राहु के बुरे प्रभाव कम हो जाते हैं। इसके साथ ही अपने पास सफेद चंदन अवश्य रखें, सफेद चंदन राहु की बुरी नजर से बचाता है।

7/7मांस-मदिरा से बचें

यदि आप चाहते हैं कि जीवन में राहु की कृपा बनी रहे तो इसके लिए मांस और मदिरा का सेवन नहीं करना चाहिए। ऐसा करने से राहु नाराज हो सकते हैं और उनकी बुरी दृष्टि से हमें कई तरह के नुकसान पहुंच सकते हैं। इसलिए मांस-मदिरा का उपयोग नहीं करना चाहिए।

इस तरह हुआ था राहु-केतु का जन्म, भगवान विष्णु का था हाथ














LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here