28 C
Mumbai
Saturday, August 15, 2020

सुप्रीम कोर्ट ने शाही परिवार को सौंपा श्री पद्मनाभ मंदिर का खजाना सौंपा, वही करेगा देखभाल

विज्ञापन
Loading...

Must read

धोनी ने तीसरी बार अपने करियर को लेकर फैसले से चौंकाया, इंटरनैशनल क्रिकेट को अचानक कहा ‘गुडबाय’

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार (15 अगस्त) की शाम को अचानक इंटरनैशनल क्रिकेट से संन्यास का ऐलान करके...

बेरूत विस्फोट का फायदा उठाकर लेबनान में दखल देना चाहते हैं पश्चिमी देश: ईरान का आरोप

ईरान के विदेश मंत्री ने आरोप लगाया है कि पश्चिमी देश पिछले सप्ताह बेरूत में हुए भीषण विस्फोट के बाद मौके का फायदा उठाने...

‘मैं पल दो पल का शायर हूं…’ गाना शेयर कर टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनैशनल क्रिकेट को कहा अलविदा

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनैशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। धोनी ने आधिकारिक सोशल मीडिया के जरिए...

सिंगापुर में कोरोना वायरस के 81 नए मरीज, कुल संक्रमितों संख्या 55500 के पार

सिंगापुर में शनिवार (15 अगस्त) को कोरोना वायरस संक्रमण के 81 नए मामले सामने आए, जिससे देश में संक्रमण के मामले बढ़ कर 55,661 हो...
MCS Deskhttps://metrocitysamachar.com/
Latest Breaking News India, Express Headlines 2020, Political News - Metro City Samachar

सुप्रीम कोर्ट ने केरल के ऐतिहासिक श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के प्रशासन में त्रावणकोर शाही परिवार के अधिकार को बरकरार रखा। श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर के मामलों के प्रबंधन वाली प्रशासनिक समिति की अध्यक्षता तिरुवनंतपुरम के जिला न्यायाधीश करेंगे। 

कोर्ट ने केरल उच्च न्यायालय के 31 जनवरी 2011 के उस आदेश को रद्द कर दिया, जिसमें राज्य सरकार से श्री पद्मनाभस्वामी मंदिर का नियंत्रण लेने के लिए न्यास गठित करने को कहा गया था।

माना जाता है कि यह भारत का सबसे अमीर मंदिर है। कुछ साल पहले यह मंदिर तब चर्चा में आया था जब एक लाख करोड़ से अधिक का खजाना वहां मिला था, कहते हैं कि इससे कहीं अधिक वहां के तहखानों में बंद है। अब यह मंदिर एक बार फिर से चर्चाओं में है। 2016 में यहां से 186 करोड़ रुपये का सोना चोरी भी हो गया था। 

कहा जाता है कि 10 वीं शताब्दी में इस मंदिर का निर्माण कराया गया था। हालांकि कहीं-कहीं इस मंदिर के 16वीं शताब्दी के होने का भी जिक्र है। लेकिन यह काफी साफ है कि 1750 में त्रावणकोर के एक योद्धा मार्तंड वर्मा ने आसपास के इलाकों को जीत कर संपदा बढ़ाई।

त्रावणकोर के शासकों ने शासन को दैवीय स्वीकृति दिलाने के लिए अपना राज्य भगवान को समर्पित कर दिया था। उन्होंने भगवान को ही राजा घोषित कर दिया था। मंदिर से भगवान विष्णु की एक मूर्ति भी मिली है जो शालिग्राम पत्थर से बनी हुई है।

विज्ञापन
Loading...

More articles

- Advertisement -
- Advertisement -

Latest article

धोनी ने तीसरी बार अपने करियर को लेकर फैसले से चौंकाया, इंटरनैशनल क्रिकेट को अचानक कहा ‘गुडबाय’

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने शनिवार (15 अगस्त) की शाम को अचानक इंटरनैशनल क्रिकेट से संन्यास का ऐलान करके...

बेरूत विस्फोट का फायदा उठाकर लेबनान में दखल देना चाहते हैं पश्चिमी देश: ईरान का आरोप

ईरान के विदेश मंत्री ने आरोप लगाया है कि पश्चिमी देश पिछले सप्ताह बेरूत में हुए भीषण विस्फोट के बाद मौके का फायदा उठाने...

‘मैं पल दो पल का शायर हूं…’ गाना शेयर कर टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनैशनल क्रिकेट को कहा अलविदा

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंटरनैशनल क्रिकेट को अलविदा कह दिया है। धोनी ने आधिकारिक सोशल मीडिया के जरिए...

सिंगापुर में कोरोना वायरस के 81 नए मरीज, कुल संक्रमितों संख्या 55500 के पार

सिंगापुर में शनिवार (15 अगस्त) को कोरोना वायरस संक्रमण के 81 नए मामले सामने आए, जिससे देश में संक्रमण के मामले बढ़ कर 55,661 हो...

सहरसा में जमीन विवाद सुलझाने गई पुलिस पर पक्षपात का आरोप लगा लोगों ने किया पथराव

बिहार के सहरसा जिला के बिहरा थाना क्षेत्र में दो पक्षों के बीच जमीन विवाद सुलझाने गयी थी बिहरा पुलिस को लोगों का...