वाराणसी में एक तरफ सावन के सोमवार को लेकर पुलिस अलर्ट मोड में है तो दूसरी तरफ 30 घंटे में तीन दुस्साहसिक वारदातों को अंजाम दे दिया गया। दो वारदातें तो बदमाशों ने सरेराह की। रविवार की शाम सिगरा के आईपी मॉल के पास कोटक महिंद्रा के सहायक मैनेजर अमन गुप्ता लूट लिया गया। सोमवार की भोर में होटल अशोका में बीए की छात्रा की गोली मारकर हत्या कर दी गई। शाम होते होते सबसे दुस्साहसिक वारदात को अंजाम दे दिया गया। 

सारनाथ के कृष्णा नगर कॉलोनी में पाइप व्यापारी धर्मेंद्र गुप्ता को घर के सामने ही गोली से उड़ा दिया अौर उनका बैग लेकर भाग गए। बदमाशों ने .32 बोर की पिस्टल से धर्मेंद्र पर तीन गोली चलाई। इसमें एक सीने में लगी थी। मौके पर पहुंची पुलिस ने खोखा बरामद कर लिया है। साथ ही आसपास लगे सीसी कैमरे की फुटेज खंगाल रही है। धर्मेंद्र रोजाना लाखों रुपया लेकर घर आते थे। सोमवार को बैग में कितने रुपये थे इसका पता नहीं चल सका है। 

 धर्मेंद्र गुप्ता की कृष्णा नगर स्थित घर से दो सौ मीटर की दूरी पर पहाड़िया कथा मार्ग पर बनारस पाइप एजेंसी के नाम से दुकान है। रात में 9:45 बजे वह दुकान बंद कर बाइक से घर आ रहे थे। इसी दौरान बाइक सवार तीन बदमाश उनके पीछे लग गए। धर्मेंद्र को शक होने पर बाइक की रफ्तार तेज करके गेट पर पहुंचे थे कि बदमाशों ने ओवरटेक करके तीन गोली सीने में मार दी। गोली लगते ही धर्मेंद्र बाइक समेत गिर पड़े।

बदमाश रुपये से भरा बैग लेकर भाग निकले। गोली की आवाज सुनकर परिजन घर के बाहर निकले तो धर्मेंद्र गिरे पड़े थे। आनन-फानन में परिजन उन्हें बीएचयू ट्रामा सेंटर लेकर गए लेकिन डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। सूचना मिलते ही एसएसपी आनंद कुलकर्णी, एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह घटनास्थल पर पहुंचे और घटना की जानकारी ली। वहीं सारनाथ, कैंट व शिवपुर समेत कई थानों की फोर्स लगा दी गई। 
एसपी सिटी दिनेश कुमार सिंह ने बताया कि रोजाना की तरह धर्मेंद्र दुकान बंद करके घर लौट रहे थे। उनके पास रुपये से भरा बैग भी था। घटना को देखकर लग रहा है कि लूट की खातिर गोली मारी गई है। फिलहाल सीसी कैमरे की फुटेज निकालकर बदमाशों की पहचान की जा रही है।