अरुणाचल प्रदेश में भूस्खलन में दो स्कूली छात्राओं की मौत

0
8

अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले में मूसलाधार बारिश के बाद हुए भूस्खलन के कारण ढही चारदीवारी एक स्कूल के छात्रावास पर गिर गई जिसके कारण दो छात्राओं की मौत हो गई और दो अन्य घायल हो गईं। तवांग के पुलिस अधीक्षक (एसपी) सागर सिंह कलसी ने शुक्रवार को बताया कि यह घटना नाम्त्सेरिंग गांव में स्थित एक सरकारी स्कूल के छात्रावास में बृहस्पतिवार को हुई जब 19 छात्राएं अपने कमरों में सो रही थीं।

बारिश के कारण भूस्खलन होने से चार दीवारी छात्रावास की इमारत पर गिर गयी। इससे एक हिस्सा गिर गया जिसमें लड़कियां दब गयी। मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने पांचवीं कक्षा की छात्रा जेन्डेन वांगमू और छठी कक्षा की छात्रा रिन्ची ल्हामू के इस हादसे में मारे जाने पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने मृतकों के परिजनों में प्रत्येक को चार .चार लाख रूपये का मुआवजा देने की घोषणा की है। 

एक आधिकारिक बयान में बताया गया कि इस हादसे में तीन लड़कियां घायल हो गयी और उनका लुमला और तवांग के अस्पताल में इलाज चल रहा है। राज्य की राजधानी में भारी बारिश के कारण कई दिनों से भूस्खलन, मिट्टी के धंसने और सड़क अवरुद्ध होने की घटनाएं देखी गईं हैं। जिला प्रशासन ने रविवार तक ईटानगर में सभी स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया है। मुख्यमंत्री खांडू ने मुख्य सचिव से स्थिति पर व्यक्तिगत रूप से निगरानी करने और असुरक्षित क्षेत्रों से लोगों को सुरक्षित स्थानों में भेजने का निर्देश दिया है।

पश्चिमी कामेंग जिले में सोमवार को बाढ़ के पानी में एक 23 वर्षीय महिला के बह जाने की खबर है और उसका अभी तक पता नहीं चला है। एनएच- 415 पर ईटानगर-नाहरलागुन मार्ग मानसून की बारिश से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। इस मार्ग को चार लेन के राजमार्ग में उन्नत किया जा रहा है।

पश्चिमी कामेंग जिले में कई स्थानों पर भूस्खलन होने के कारण शुक्रवार को छठे दिन भी भालुकपोंग-चारद्वार-तवांग (बीसीटी) रोड बंद है। जिले की उपायुक्त सोनल स्वरूप ने 11 जुलाई से पिंजोली ब्रिज प्वाइंट और टेंगा के बीच एक महीने तक सड़क पर सभी तरह के वाहनों की आवाजाही पर रोक लगा दी है।

कभी ताकतवार रही कांग्रेस अब गोवा में लड़ रही है वजूद की लड़ाई

भारतीय सीमा में चीनी घुसपैठ की रिपोर्ट से सेना का इनकार