कर्नाटक संकट: कड़ी सुरक्षा में स्पीकर के ऑफिस पहुंचे बागी विधायक, वर्तमान सरकार पर जल्द साफ होगा रुख

0
7

कर्नाटक कांग्रेस-जेडीएस के बागी विधायक मुंबई बेंगलुरू पहुंचे चुके हैं। अब वे कुछ ही देर में विधान सौधा में स्पीकर से मुलाकात करने के लिए उनके दफ्तर पहुंच रहे हैं। कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस गठंधन वाली सरकार रहेगा या नहीं अब से कुछ ही घंटों बाद तस्वीर साफ हो सकती है। क्योंकि इन विधायकों के इस्तीफे मंजूर होने से मौजूदा सरकार के पास सरकार बचाने के लिए जरूरी पर्याप्त संख्या नहीं होगी।

पुलिस उन्हें सुरक्षा दे रही है ताकि वह छह बजे स्पीकर से मिल सके। इससे पहले, सुप्रीम कोर्ट ने बागी विधायकों की तरफ से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा था कि वह स्पीकर से शाम छह बजे तक मिलकर उन्हें फिर इस्तीफा दे सकते हैं। 

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई के नेतृत्व वाली एक पीठ ने कर्नाटक विधानसभा के अध्यक्ष से कहा कि वह इन विधायकों के इस्तीफे के बारे में आज ही निर्णय लें। पीठ ने कहा कि अध्यक्ष द्वारा लिये गये फैसले से शुक्रवार को अवगत कराया जाये जब न्यायालय इस मामले में आगे विचार करेगा।

कर्नाटक:10 बागी विधायकों के बारे में आदेश के खिलाफ SC पहुंचे स्पीकर

 

न्यायालय के निर्देश पर प्रतिक्रिया व्यक्ति करते हुए यहां पोवई स्थित एक होटल में अन्य बागी विधायक साथियों के साथ ठहरे बागी विधायक बी बसावराज ने संवाददाताओं से कहा कि वे कर्नाटक के विधानसभाध्यक्ष से शाम चार बजे मुलाकात करेंगे।

उन्होंने कहा, ”हम उच्चतम न्यायालय के निर्देशों का सम्मान करते हैं। हम आज ही शाम चार बजे विधानसभाध्यक्ष से मिलेंगे और उन्हें हमारे इस्तीफे देंगे। हम अपने इस्तीफे वापस नहीं लेंगे। 

यह पूछे जाने पर कि क्या कर्नाटक विधानसभा से उनके इस्तीफा देने के निर्णय के पीछे भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का हाथ है, बसावराज ने कहा, ”हमारे निर्णय के पीछे भाजपा नहीं है। इसका भाजपा से कोई लेना देना नहीं है। कांग्रेस, जदएस और निर्दलीयों सहित 14 विधायक कर्नाटक विधानसभा से इस्तीफा देने और दक्षिणी राज्य में गठबंधन सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद यहां के होटल में रुके हुए हैं। 

बुधवार को कर्नाटक के वरिष्ठ मंत्री डी के शिवकुमार को पुलिस ने तब होटल में प्रवेश करने से रोक दिया था जब उन्होंने बागी विधायकों से मुलाकात की जिद की। शिवकुमार को बाद में बेंगलुरू वापस भेज दिया गया था। यदि बागी विधायकों के इस्तीफे स्वीकार हो जाते हैं तो दक्षिणी राज्य में सत्तारूढ़ गठबंधन के बहुमत खोने का खतरा है। 

गठबंधन में विधानसभाध्यक्ष को छोड़ कर कुल विधायकों की संख्या 116 (कांग्रेस..78, जदएस..37 और बसपा एक) है। कर्नाटक विधानसभा का मानसून सत्र शुक्रवार से शुरू होना है।